नई दिल्‍ली, ऑन लाइन डेस्‍क। Air Quality Index In Delhi: दिल्‍ली-एनसीआर में प्रदूषण अपने चरम स्‍तर पर है। हर दिन हर पल दिल्‍ली-एनसीआर में प्रदूषण बढ़ता ही जा रहा है मानो यह इस बार कहर बरपा देगा। इधर रविवार की सुबह हुई हल्‍की बारिश से भी प्रदूषण के स्‍तर में कोई कमी नहीं दिखी। प्रदूषण के स्‍तर यानी एयर क्‍वालिटी इंडेक्‍स की बात करें तो यह उस स्‍तर पर है जिस स्‍तर पर इसे नापने वाली मशीन ही अभी दिल्‍ली में नहीं है।

500 से ऊपर मापने की व्‍यवस्‍था नहीं

जानकारों के मुताबिक एयर क्‍वालिटी इंडेक्‍स मापने वाली मशीन से अधिकतम 500 तक का स्‍तर ही माप सकते हैं वहीं दिल्‍ली के अधिकतर इलाकों में प्रदूषण 1000 के स्‍तर पर पहुंच चुका है। दिल्‍ली के झिलमिल और आइटीआइ शाहदरा के आसपास प्रदूषण का स्‍तर 999 पर है।

एनसीआर भी प्रदूषण से घुट रहा

वहीं गाजियाबाद में यह 795 पर है। दिल्‍ली के सबसे व्‍यस्‍त बस अड्डे आनंद विहार की बात करें यहां प्रदूषण रविवार की दोपहर को 1350 पर पहुंच गया था। फरीदाबाद में यह 507 पर पहुंचा हुआ है जो सबसे खराब की श्रेणी में आता है। दिल्‍ली में कुल मिला कर यह कहें कि प्रदूषण 1000 के स्‍तर को पार कर चुका है। यह हेल्‍थ इमरजेंसी जैसे हालात से भी भयावह है। इसी तरह हमारे आसपास की हवा और प्रदूषित होती रही तो वह दिन दूर नहीं जब हमें पानी की तरह हवा भी खरीद कर लेनी पड़ेगी।

तत्‍काल सख्‍त कदम उठाने की जरूरत

पड़ोसी मुल्‍क की बात करें तो भारत अपने पड़ोसी देश पाकिस्‍तान और चीन से आगे है। हालांकि चीन और भारत के कई इलाकों में प्रदूषण 999 पर है। वहीं 136 है। गांधी जयंती के मौके पर पूरे मुल्‍क ने प्रदूषण (कचरे) को अपने जीवन से दूर करने की शपथ ली थी वहीं ऐसे हालात में अब यह हमें सोचने का वक्‍त है कि आखिर हम किस मोड़ पर जाकर रुकेंगे। अगर अब नहीं चेते तो आने वाली पीढ़ियां हमसे यह जवाब मांगेगी कि आखिर हमने उन्‍हें इतना प्रदूषण क्‍यों दिया है।

अब क्‍या करना होगा

सरकार ने प्रदूषण के स्‍तर से निपटने के लिए स्‍कूलों में दो दिनों की छुट्टी कर दी है। वहीं आॅड इवन शुरू किया जा रहा है। निर्माण कार्य पर रोक लगी है। सड़क के किनारे पानी डालने सहित पेड़ों पर पानी का छिड़काव किया जा रहा है जिससे धूल नहीं उड़े। हर स्‍तर पर प्रदूषण को कम करने के उपाय किए जा रहे हैं। 

हमें क्‍या करना चाहिए

हमें इस प्रदूषण के स्‍तर को कम करने के लिए प्रयास करना चाहिए। अपनी प्राइवेट कार की जगह पब्‍लिक ट्रांसपोर्ट का इस्‍तेमाल करना चाहिए। अगर यह नहीं कर सकते तो कम से कम कार पूल कर प्रदूषण के स्‍तर को कम रखने में मदद कर सकते हैं। 

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस