नई दिल्ली, जेएनएन। लोकसभा चुनाव में हार के बाद पहली बार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता नौकरी से छुट्टी लेकर चुनाव का प्रचार किये।लेकिन परिणाम हमारी सोच के अनुरूप नहीं आए।

उन्होंने कहा कि आप के लिए कोई निगेटिविटी नहीं थी, फिर भी परिणाम पक्ष में न आने का कारण था कि देश में एक अलग आंधी बह रही थी। दिल्ली भी उससे अछूता नहीं रहा। चुनाव के दौरान कहा जा रहा था कि लोकसभा का चुनाव राहुल और मोदी का रहा। हालांकि, इस चुनाव में हम लोगों को समझा नहीं पाए कि आम आदमी पार्टी को वोट क्यों दें?

केजरीवाल ने कहा कि लोग अब कह रहे हैं कि विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को ही वोट देंगे। उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता जनता के बीच जाएं और सरकार की उपलब्धियों को बताएं। दिल्ली के सीएम ने कहा कि आज साढ़े छह साल हो गए हैं, फिर भी आप अपने वसूलों पर खड़ी है। 

उन्होंने कहा कि मेरे समेत कई मंत्री और विधायक की जांच सीबीआइ और ईडी कर चुकी है लेकिन, एक पैसे का भ्रष्टाचार नहीं मिला। केजरीवाल ने कहा कि हम तो कहते हैं कि एक दो एजेंसी हमे दे दिया जाए, फिर देखो, कितने और किन-किन के भ्रष्टाचार निकालेंगे। अन्ना जी ने कहा करते थें, राजनीति में आने पर अपमान का घूंट पीने की क्षमता होनी चाहिए।

सीएम ने कहा कि आम आदमी पार्टी के लिए काम करने का मतलब है देश के लिए काम करना। मैं कार्यकर्ताओं को कहना चाहता हूं कि आपको गर्व होना चाहिए कि आप देश का काम कर रहे हैं। अगर फरवरी 2020 में जनता ने भाजपा या कांग्रेस को चुन लिया तो दिल्ली फिर बर्बाद हो जाएगी। इसी कारण लोग कह रहे हैं 2020 में केजरीवाल। बस आप अपनी मायूसी खत्म करें। हसंते हुए लोगों के बीच जाइए।

बता दें कि लोकसभा चुनाव में पार्टी को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है। दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों पर हुए चुनाव में आम आदमी पार्टी अपना खाता तक नहीं खोल पाई। हालात ये हुई की पार्टी के 3 उम्मीदवार अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए। 

 दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस