फोटो 17 पीकेटी 8, 9, 10 सुविधा

-सीएम ने शालीमार बाग में 1,430 बेड के अस्पताल का किया शिलान्यास -कहा, 6,800 बेड क्षमता के सात नये अस्पताल का निर्माण छह माह में जागरण संवाददाता, बाहरी दिल्ली : मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल ने रविवार को शालीमार बाग में 1,430 बेड के सरकारी अस्पताल का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कुल 6,800 बेड क्षमता के सात नए अस्पताल छह माह में बनाए जाएंगे। यह अपने आप में विश्व में एक रिकार्ड होगा कि छह माह में 6,800 बेड के सात अस्पताल बनकर तैयार होंगे। एक जिम्मेदार सरकार होने के नाते कोरोना की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए हम सभी जरूरी कदम उठा रहे हैं। जब अप्रैल में दूसरी लहर आई थी तो अस्पतालों में सबसे ज्यादा कमी बेड, आक्सीजन और आइसीयू बेड की हुई थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली की स्वास्थ्य सुविधाएं आज पूरे देश में सरकारी महकमे के अस्पतालों में सबसे अच्छी हैं। अब इसको हमें विश्वस्तरीय बनाना है। आने वाले समय में हम हेल्थ इंफार्मेशन मैनेजमेंट सिस्टम (एचआइएमएस) लागू करने जा रहे हैं। अगले एक-डेढ़ साल के अंदर दिल्ली के हर नागरिक का हेल्थ कार्ड होगा। उसके हेल्थ का पूरा डेटा कंप्यूटर पर होगा। लोगों की अस्पताल में लंबी-लंबी लाइनें लगनी बंद हो जाएंगी। लोग एप के जरिए डाक्टर से मिलने का समय लेंगे। जिसके पास हेल्थ कार्ड होगा, उसका पूरा इलाज मुफ्त होगा। मुझे नहीं लगता कि दुनिया के किसी भी देश में अभी तक ऐसा सिस्टम है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के लोगों ने एक ईमानदार सरकार को चुना है। जिसका नतीजा है कि 2015 से पहले अस्पताल में एक बेड को तैयार करने में एक करोड़ की लागत आती थी, लेकिन हमारी सरकार मात्र बीस लाख खर्च कर आइसीयू बेड तैयार कर रही है। कोरोना के वक्त में पूरी दुनिया ने मेडिकल सुविधाओं की जरूरत को समझा है। हमारी सरकार अपने पहले दिन से ही स्वास्थ्य सुविधाओं को मजबूत करने का काम कर रही है।

---------------------

अस्पताल का हर बेड होगा आइसीयू मुख्यमंत्री ने कहा कि शालीमार बाग में 275 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला अस्पताल छह माह में तैयार हो जाएगा। इस अस्पताल का हर बेड आइसीयू बेड होगा। हर बेड पर आक्सीजन, मानिटर आदि की सुविधा होगी। इसे समान्य बेड की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है। उनके साथ स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, क्षेत्रीय विधायक बंदना कुमारी भी थीं। स्वास्थ्य मंत्री ने भी अस्पताल का निर्माण कार्य अगले छह महीने में पूरा कर लेने की बात कही।

--------------- पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने के कारण बढ़ा प्रदूषण मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल ने कहा कि पिछले तीन दिनों के अंदर दिल्ली में प्रदूषण बढ़ा है। ऐसा पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने के कारण हो रहा है। दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति नियंत्रण में थी और हम एक माह से ट्वीट कर इसकी जानकारी दे रहे हैं। हमने पराली को गलाने के लिए घोल तैयार किया है। लेकिन पंजाब व अन्य राज्यों के किसान पराली नहीं जलाएं, इसके लिए वहां की सरकारें कोई कदम नहीं उठा रही हैं। पड़ोसी राज्यों के सरकार को भी इस दिशा में काम करना चाहिए। उन्होंने पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी को लेकर केंद्र सरकार से टैक्स कम कर लोगों को राहत देने की अपील की।

Edited By: Jagran