नई दिल्ली। दरिंदगी के इंतेहा पार करते हुए कुल नौ लोगों ने विदेशी महिला को अपनी हवस का शिकार बनाया। नौ आरोपियों में तीन तो नाबालिग हैं।

डेनिश महिला के साथ नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के समीप हुई सामूहिक दुष्कर्म की वारदात के मामले में शनिवार को अदालत में दो पुलिसकर्मियों के बयान दर्ज हुए। बीते वर्ष 52 वर्षीय महिला से हुए सामूहिक दुष्कर्म के इस मामले में कुल नौ आरोपी हैं, जिनमें तीन नाबालिग भी शामिल हैं।

तीस हजारी की फास्ट ट्रैक कोर्ट की न्यायाधीश कावेरी बवेजा की अदालत में शनिवार को पहाड़गंज थाने के एसएचओ राजकुमार और जांच अधिकारी पुष्पा के बयान दर्ज हुए। पुष्पा मुकदमा दर्ज होने के समय इस मामले की जांच अधिकारी थीं। मामले की अगली सुनवाई अब 24 नवंबर को होगी।

इससे पहले फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने अदालत में सौंपी अपनी रिपोर्ट में बताया था कि आरोपियों के डीएनए सैंपल का मिलान पीड़िता के कपड़ों से मिले नमूनों से हो गया है। दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट में अदालत को बताया था कि डेनमार्क की महिला के साथ चाकू की नोक पर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के आसपास घूमने वाले आवारा लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म किया था।

बीते वर्ष 14 जनवरी को हुई इस वारदात के दौरान पीड़िता के साथ लूटपाट भी की गई। रेलवे के डिविजनल रेलवे ऑफिसर क्लब के पास सुनसान रास्ते पर इस वारदात को अंजाम दिया गया था।

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप