जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली:

जेसी बोस विश्वविद्यालय, सीसीएसडी योग विभाग व नवयोग सूर्योदय सेवा समिति द्वारा महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के उपलक्ष्य में महात्मा गांधी एवं प्राकृतिक चिकित्सा विषय पर वेबीनार का आयोजन किया गया। जिसमें देश-विदेश से सैकड़ों लोग जुड़े। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद व भारत स्काउट एंड गाइड के अध्यक्ष डॉ. अनिल जैन ने कहा कि महात्मा गांधी के नाम का इस्तेमाल तो बहुत लोगों ने किया पर उनके कार्यो व विचारों का अनुसरण किसी ने नहीं किया, लेकिन आज सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कारण ही गांधी के विचार प्रासंगिक हो गए हैं।

अनिल जैन ने कहा कि महात्मा गांधी ने जो विचार दिए पहले खुद उनका पालन किया फिर उन्हें दुनिया के सामने रखा। उनके विचारों में उनकी तपस्या है। गांधी हमेशा प्रकृति के करीब रहे अगर हम भी प्रकृति के अनुसार चलें तो हम निरोगी रह सकते हैं। वहीं, आरोग्य भारती के राष्ट्रीय संगठन सचिव डॉ अशोक कुमार वाष्र्णेय ने कहा कि कोरोना काल ने पूरे विश्व को अपने आगोश में ले लिया है, तो अब ऐसे समय में हमें प्राकृतिक चिकित्सा की ओर बढ़ना चाहिए। डॉ. नवदीप जोशी ने कहा कि प्रकृति चिकित्सा का मतलब है प्रकृति की गोद में जाना और महात्मा गांधी बिल्कुल प्रकृति से जुड़े हुए थे। इस अवसर पर जेसी बोस विश्वविद्यालय के निदेशक दिनेश कुमार तिवारी, डॉ जितेंद्र आर्य, न्यूयॉर्क से दिलीप कुमार, डॉ. संजीव गोयल, जेएनयू के खेल विभाग के निदेशक डॉ विक्रम सिंह ने भी अपने विचार रखे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस