जागरण संवाददाता, नई दिल्ली

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) से संबद्ध 51 विभागों एवं 157 पाठ्यक्रमों में एमफिल एवं पीएचडी में दाखिले 17 सितंबर से होंगे। जुलाई में एमफिल एवं पीएचडी के लिए आयोजित प्रवेश परीक्षा के नतीजों में छात्रों का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था, इस कारण विश्वविद्यालय ने दाखिला प्रक्रिया रोक दी थी। उस समय आरक्षित वर्ग के विद्यार्थियों को प्रवेश परीक्षा के अंकों में छूट नहीं दी जा रही थी। इसका विद्यार्थियों ने विरोध किया था। डीयू प्रशासन की तरफ से एमफिल एवं पीएचडी प्रवेश परीक्षा की नई अधिसूचना मंगलवार को जारी की गई, इसके तहत सभी आरक्षित वर्ग के छात्रों को पांच फीसद अंकों में छूट देने की बात कही गई है।

डीयू के अकादमिक परिषद के सदस्य प्रोफेसर हंसराज सुमन ने बताया कि नई अधिसूचना के तहत एमफिल एवं पीएचडी के छात्रों को प्रवेश परीक्षा के अंकों में पांच फीसद की छूट दी जाएगी। पहले यह छूट नहीं दी जा रही थी। यूजीसी के नियम को डीयू ने लागू करते हुए कहा था कि एमफिल एवं पीएचडी की प्रवेश परीक्षा के अंकों में किसी भी श्रेणी के विद्यार्थियों को कोई छूट नहीं मिलेगी, लेकिन डीयू प्रशासन ने आरक्षित वर्ग के छात्रों को पांच फीसद छूट दी है। पहले सभी श्रेणी के छात्रों को 50 फीसद अंक लेना अनिवार्य कर दिया गया था। इसमें आरक्षित वर्ग के छात्रों के लिए भी एमफिल एवं पीएचडी की प्रवेश परीक्षा में 50 फीसद अंक लाना अनिवार्य किया गया था, लेकिन अब इसमें आरक्षित वर्ग के छात्रों को रियायत दी गई है।

Posted By: Jagran