Move to Jagran APP

Delhi Containment Zones List: प्रवासियों के लिए दिल्ली सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जानिये- कंटेनमेंट जोन की संख्या

Delhi Containment Zones List दिल्ली सरकार की ओर से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे कंटेनमेंट जोन पर और ध्यान बढ़ाएं।

By JP YadavEdited By: Published: Sat, 15 Aug 2020 07:59 AM (IST)Updated: Sat, 15 Aug 2020 08:52 AM (IST)
Delhi Containment Zones List: प्रवासियों के लिए दिल्ली सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जानिये- कंटेनमेंट जोन की संख्या

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Containment Zones List: देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए करीब साढ़े चार माह में 1225 कंटेनमेंट (सील) बनाए गए हैं। इनमें से 702 को डी-कंटेन (कोरोना मुक्त) किया जा चुका है। अभी 523 कंटेनमेंट जोन हैं। दिल्ली सरकार की ओर से बृहस्पतिवार तक की स्थिति पर जारी रिपोर्ट के अनुसार, अब तक सबसे ज्यादा 237 कंटेनमेंट जोन दक्षिणी-पश्चिमी जिले में बनाए गए। जिसमें से 102 डी-कंटेन हो चुके हैं। वहीं अब तक सबसे कम जोन उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 57 बने। इनमें से 26 डी-कंटेन हो चुके हैं।

कंटेनमेंट जोन में बढ़ाया गया जांच का दायरा

लगातार आ रहे कोरोना वायरस संक्रमित के मरीजों के चलते कंटेनमेंट जोन में जांच का दायरा बढ़ा दिया गया है। दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार की ओर से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे कंटेनमेंट जोन पर और ध्यान बढ़ाएं। पिछले दिनों दिल्ली सरकार की एक बैठक में शिकायत आई थी कि सिविल डिफेंस के लोग पैसे लेकर कॉलोनी के लोगों को बाहर जाने दे रहे हैं। इस पर भी सख्ती करने के लिए पुलिस से कहा गया है।

बाहर से आ रहे प्रवासियों की होगी कोरोना जांच

दिल्ली सरकार ने यह भी कहा है कि दूसरे राज्यों से दिल्ली लौट रहे प्रवासियों के लिए दिल्ली भर में जगह-जगह शिविर लगाए जाएंगे। यहां उनकी कोरोना जांच की जाएगी। सभी प्रवासियों को जांच कराना अनिवार्य होगा। प्रवासी इलाके की सरकारी डिस्पेंसरी में भी जाकर जांच करा सकते हैं।

यहां पर बता दें कि दिल्ली में तेजी से कोरोना वायरस संक्रमित मरीज ठीक रहे हैं। ठीक होने वालों की दर 90 फीसद के आसपास है। कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में दिल्ली के मॉडल की देशभर में तारीफ हो रही है। खासकर टेस्टिंग और कंटेनमेंट जोन की वजह से दिल्ली में कोरोना के मामलों में तेजी से कमी आई है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.