नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने सक्रियता बढ़ा दी है। अगले 12 दिनों में प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा कर दी जाएगी। साढ़े तीन साल से प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा लटकी हुई है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चार दिन पहले ही 25 सितंबर तक प्रदेश कार्यकारिणी घोषित करने का निर्देश दिया है। उन्होंने सभी पार्टी नेताओं को साथ लेकर चलने के लिए कहा है। यही कारण है कि प्रदेश कार्यकारिणी में कद्दावर नेताओं के अलावा युवा चेहरों को भी शामिल कर संतुलन बनाने की कोशिश की जा रही है।

रोड़ा बनी गुटबाजी
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर कार्यभार संभालते हुए अजय माकन को करीब साढ़े तीन साल हो गए हैं। इस दौरान प्रदेश कार्यकारिणी के गठन के लिए कई बार कोशिश की गई, लेकिन गुटबाजी की वजह से इसे अंतिम रूप नहीं दिया जा सका। प्रदेश कार्यकारिणी करीब सौ लोगों की हो सकती है।

Image result for कांग्रेस रैली दैनिक जागरण

वरिष्ठ नेताओं को तरजीह दी जाएगी
सूत्रों के अनुसार उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव एवं कोषाध्यक्ष के पद पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को तरजीह दी जाएगी, जबकि कुछ युवा नेताओं को कार्यकारिणी का सदस्य बनाया जाएगा। दिल्ली के सभी पूर्व प्रदेश अध्यक्षों, पूर्व सांसदों, पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों एवं पूर्व मुख्यमंत्री को विशेष आमंत्रित सदस्य के तौर पर कार्यकारिणी में शामिल किया जाएगा।

लोकसभा चुनाव की तैयारी
पार्टी सूत्र बताते हैं कि कार्यकारिणी को लेकर कोई विवाद नहीं हो, इसके मद्देनजर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जेपी अग्रवाल से भी संपर्क साधा जा रहा है। इन्हीं के साथ लंबे समय से दूरियां चल रही हैं। कई पूर्व सांसदों, पूर्व मंत्रियों और पूर्व विधायकों के बेटों को भी प्रदेश कार्यकारिणी में शामिल किए जाने के संकेत हैं। कार्यकारिणी की घोषणा के बाद सभी नेताओं को सक्रियता के साथ लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटने के लिए कहा जाएगा। जो सक्रिय नहीं दिखेगा उससे पद वापस लिया जा सकता है।

अजय माकन दैनिक जागरण के लिए इमेज परिणाम

हर किसी को साथ लेकर चलने की कोशिश
दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन का कहना है कि प्रदेश कार्यकारिणी बहुत जल्द घोषित कर दी जाएगी। नए-पुराने सभी नेताओं के बीच सामंजस्य बैठाया जा रहा है। हर किसी को साथ में लेकर चलने की कोशिश है।