नई दिल्ली। रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों को चमकाने के लिए सफाई अभियान चलाया जा रहा है, लेकिन इसे लेकर रेलवे कर्मचारी व अधिकारी कितने गंभीर हैं इसकी पोल नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर बृहस्पतिवार को चीफ कमर्शियल मैनेजर (यात्री सुविधा) कैप्टन जेपी सिंह के औचक निरिक्षण में खुल गई।

सफाई के नाम पर सिर्फ खाना पूर्ती की जा रही है। शौचालय से लेकर प्रतीक्षालय और प्लेटफॉर्म पर भी सफाई की उचित व्यवस्था नहीं दिखी। प्लेटफार्म नंबर 16 पर तो हालात बेहद खराब नजर आए। आलम यह था कि ट्रेन का इंतजार कर रहे यात्रियों का वहां बैठना मुश्किल था।

11 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक सरदार पटेल यूनाइटेड क्लीन इंडिया ड्राइव चलाया जा रहा है। इस दौरान रेलवे स्टेशनों व ट्रेनों की साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाना है जिससे कि यहां यात्रियों को गंदगी से परेशानी नहीं हो। लेकिन, इसके लिए पर्याप्त संसाधन की व्यवस्था नहीं की गई है जिससे ठीक ढंग से सफाई नहीं हो रही है।

प्रतीक्षालय में फैली थी गंदगी

कैप्टन जेपी सिंह बृहस्पतिवार सुबह नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं की जांच करने पहुंचे थे। प्लेटफार्म नंबर 16 की तरफ बने प्रतीक्षालय के शौचालय का बुरा हाल था। शौचालय को देखकर लग रहा था कि इसकी कई दिनों से सफाई नहीं हुई है। यूरिनल के पाइप गायब थे। संबंधित लोगों से पूछने पर बताया गया कि अधिकारियों को कई बार सूचना देने के बाद भी यूरिनल ठीक नहीं किए गए।

वातानुकूलित प्रतीक्षालय का भी बुरा हाल

प्लेटफार्म नंबर 1 पर बने वातानुकूलित प्रतीक्षालय की भी स्थिति अच्छी नहीं थी। जांच के दौरान कई ऐसे यात्री मिले जो बीती रात से यहां डेरा जमाए हुए थे। जबकि नियम के अनुसार ट्रेन के प्रस्थान समय से दो घंटे पहले ही प्रतीक्षालय में आने की अनुमति दी जाती है जिससे कि भीड़ नहीं लगे। लेकिन, वहां तैनात कर्मचारियों की लापरवाही से लोग घंटों प्रतीक्षालय में पड़े रहते हैं।

कुली वसूल रहे थे ज्यादा पैसे

कैप्टन सिंह ने जांच के दौरान यात्रियों से ज्यादा पैसे वसूलने के आरोप में तीन कुलियों के बैच नंबर भी जब्त कर लिए। वहीं, करंट काउंटर पर मौजूद टिकट बुकिंग क्लर्क न तो वर्दी पहना हुआ था और न नेम प्लेट लगाया हुआ था।

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस