जागरण संवाददाता, दक्षिणी दिल्ली : जौनापुर गांव में शनिवार रात साइकलिग कर रहे युवक को कुचलने के आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हादसे के बाद आरोपित पीड़ित को घायल अवस्था में ही छोड़कर भाग गया था। राहगीरों की सूचना पर मौके पर पहुंची फतेहपुरबेरी थाना पुलिस ने युवक को अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक की पहचान अखिलेश के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपित रोहित को सीसीटीवी फुटेज की मदद से गिरफ्तार किया है। पुलिस से बचने के लिए उसने हादसे में क्षतिग्रस्त हुई अपनी कार की मरम्मत के लिए उसे फरीदाबाद के एक सर्विस सेंटर में भेजा था, जहां से पुलिस ने गाड़ी को जब्त कर लिया है। दक्षिणी दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया अखिलेश अपने परिवार के साथ जौनापुर गांव में रहते थे और गांव के पास ही एक फर्नीचर शोरूम में मैनेजर थे। पुलिस को शनिवार रात सूचना मिली कि जौनापुर गांव में एक वाहन ने साइकिल सवार को कुचल दिया है। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने अखिलेश को मृत घोषित कर दिया। एसएचओ इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह के नेतृत्व में एसआइ मंजीत कुमार, एएसआइ अश्विनी, हेडकांस्टेबल जगपाल, अजय, कांस्टेबल नरेश, अशोक व राहुल की टीम ने आरोपित के बारे में जानकारी जुटानी शुरू की। पुलिस टीम ने घटनास्थल के आधा किलोमीटर तक लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। इसमें दुर्घटना का वीडियो तो नहीं था, लेकिन पुलिस को एक संदिग्ध गाड़ी दिखाई दी जो आगे से टूटी हुई थी जो रमेश के नाम पर रजिस्टर्ड है।

रमेश ने पुलिस को बताया कि उसका दोस्त रोहित गाड़ी लेकर गया था। पूछताछ में रोहित आनाकानी करने लगा और बताया कि गाड़ी खराब हो गई थी, जिसकी मरम्मत के लिए उसे फरीदाबाद के सर्विस सेंटर पर भेजा है। पुलिस सर्विस सेंटर पहुंची तो वहां गाड़ी एकदम सही हालत में मिली। सर्विस सेंटर के मैकेनिक ने बताया कि मरम्मत से पहले कार के फोटो खींचे गए थे। कार की मरम्मत से पहले की सीसीटीवी फुटेज की फोटो से मिलान कराया गया तो आरोपित का झूठ पकड़ में आ गया और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस