जागरण संवाददाता, बाहरी दिल्ली : अमन विहार इलाके में तेज रफ्तार ईको वैन की जबर्दस्त टक्कर से बुजुर्ग का एक हाथ कट गया और कटे हुए हाथ का हिस्सा वैन में जा गिरा। इस दौरान वैन में फंसे बुजुर्ग को चालक करीब एक सौ मीटर तक घसीटता रहा। हादसे में गंभीर रूप से घायल बुजुर्ग मंगोलपुरी के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती हैं, जहां डॉक्टरों की टीम उनके हाथ की सर्जरी करने की तैयारी में हैं। अमन विहार थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपित चालक नीरज को गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के अनुसार, 65 वर्षीय महेंद्र ¨सह अपनी पोती के साथ किराड़ी इलाके के शीश महल एंक्लेव में रहते हैं और घर के पास ही बच्चों के खाने-पीने के सामान बेचते हैं। वह करीब सवा 11 बजे अपनी दुकान की सीढि़यों पर खड़े होकर सामान आदि लगा रहे थे, तभी वहां से तेज रफ्तार ईको वैन गुजरी और उसने बुजुर्ग को जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर मारने के बावजूद चालक ने वैन नहीं रोकी और वैन के आगे फंसे बुजुर्ग को घसीटता रहा। लेकिन, कुछ दूर के बाद वैन का टायर फट गया और वह नाले की दीवार से टकरा कर रुक गई। इसके बाद चालक मौके से भाग गया।

शोर सुनकर मौके पर पहुंचे लोगों ने देखा कि बुजुर्ग का दाहिना हाथ कोहनी से पूरी तरह से अलग होकर चालक की सीट पर पड़ा है और बुजुर्ग पूरी तरह से लहूलुहान होकर वैन व दीवार के बीच फंसे पड़े हैं। स्थानीय लोगों ने वैन को खींचकर बुजुर्ग को बाहर निकाला और इसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी। पड़ोसी राजेश ने घायल को कार से अस्पताल पहुंचाया। बताया जाता है कि कटे हुए हाथ को देखने के बाद डॉक्टरों ने उसे जोड़ने में असमर्थता जताई है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, जिस रोड पर हादसा हुआ है, वह 25 फुटा सड़क है और वैन की रफ्तार करीब एक सौ किलोमीटर प्रति घंटा रही होगी।

इस बीच मामले की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने ईको वैन को जब्त कर लिया और जांच के बाद चालक को गिरफ्तार कर लिया। चालक भी शीश महल एंक्लेव में रहता है। ईको वैन से इलाके के बच्चों को स्कूल पहुंचाने का काम किया जाता था। गनीमत रही कि उस समय वैन में एक भी बच्चा नहीं था।

Posted By: Jagran