-कहा, हाई कोर्ट ने भी दिल्ली सरकार को दी है क्लीनचिट राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली :

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा है कि कोरोना से मौत के मामले पर भाजपा सियासत कर रही है। दिल्ली सरकार द्वारा जारी किए जा रहे आंकड़ों को दिल्ली हाई कोर्ट ने भी सही ठहराया है। हाई कोर्ट में इस संबंध में एक याचिका दायर की गई थी, जिसे खारिज करते हुए कोर्ट ने स्पष्ट किया कि दिल्ली सरकार की डेथ ऑडिट कमेटी खुद में पूरी तरह से सक्षम है। उसके आंकड़ों को गलत नहीं ठहराया जा सकता है।

राघव चड्ढा ने कहा कि मृत्यु के आंकड़े छिपाने का आरोप लगाने वाले भाजपा नेताओं को दिल्ली सरकार और यहां की जनता से माफी मांगनी चाहिए। इस महामारी के समय में भी भाजपा ने गंदे, झूठे और निराधार आरोप लगाकर दिल्ली सरकार पर कीचड़ उछालने का काम किया है। यही वजह है कि दिल्ली हाई कोर्ट ने आरोपों को निराधार मानते हुए याचिका को खारिज कर दिया। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा है कि दिल्ली सरकार द्वारा किसी भी प्रकार के भेदभाव, मध्यस्थता या मरने वालों के आंकड़ों से छेड़छाड़ करने के आरोपों कि पुष्टि नहीं हो सकी है। यानी कि दिल्ली सरकार ने मरने वालों के जो आंकड़े जारी किए हैं उसमें कुछ भी गलत नहीं है। दिल्ली में अन्य राज्यों की तुलना में मरने वालों की दर कम :

पार्टी प्रवक्ता चड्ढा ने दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना के केस के संबंध में कहा कि इस कोरोना की लड़ाई में सबसे महत्वपूर्ण आंकड़ा जो देखना चाहिए, वह मृत्यु दर है। यानी कि कितने लोग इस बीमारी से संक्रमित होकर जान गंवा रहे हैं। दिल्ली सरकार ने अथक प्रयास कर के कोरोना से मरने वालों की दर को बहुत हद तक कम करके रखा है। लोगों को अच्छा इलाज दिया है, अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं दी है। इससे मृत्यु दर को काफी हद तक संभालने की कोशिश की है और हम उसमें सफल भी हुए हैं। बीमारी से कितने लोग संक्रमित हुए हैं, यह एक चिता का विषय है, लेकिन कितने लोगों की जान गई, यह ज्यादा चिता का विषय है। मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल का यही लक्ष्य है कि बीमारी से दिल्ली में किसी को मरने न दिया जाए। संक्रमित व्यक्ति को जल्द से जल्द उचित उपचार मुहैया कराकर ठीक किया जाए। इस आंकड़े पर दिल्ली सरकार नजर बनाए हुए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस