राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली : दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी कहा कि निगम कर्मचारियों को वेतन देने के बजाय आम आदमी पार्टी (आप) और भाजपा लड़ाई में व्यस्त हैं। कर्मचारियों को वेतन का भुगतान करने के लिए जमीनी स्तर पर काम करने के बजाय दोनों पार्टियां एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहीं हैं। निगम की बदहाली के लिए दोनों पार्टियां जिम्मेदार हैं।

उन्होंने कहा कि तीनों निगमों के महापौर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री आवास के बाहर धरने पर बैठ गए। कांग्रेस के शासनकाल में नगर निगमों का फंड कभी नहीं रोका गया।

चौधरी ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार ने चौथे वित्त आयोग की सिफारिश को लागू नहीं किया। लंबे समय तक फंड जारी नहीं किए जाने से निगम वित्तीय रूप से कमजोर होते जा रहे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस