नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। पहाड़ों पर मूसलधार बारिश से दिल्ली में यमुना का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गया है। हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से दिल्ली की ओर लगातार हजारों क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। शुक्रवार सुबह 11 बजे यमुना का जलस्तर स्तर 205.33 को पार करते हुए 205.34 पहुंच गया, शाम सात बजे तक यह स्तर 205.56 पहुंच गया। जलस्तर लगातार बढ़ने से प्रशासन ने खादर के क्षेत्र में मुनादी करवाकर लोगों से क्षेत्र को छोड़कर सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए अपील की। इसके साथ ही सिविल डिफेंस वालंटियर की कई टीमों को यमुना किनारों पर तैनात किया गया है, ताकि लोग यमुना में न जा सकें। बोट क्लब को अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है। पूर्वी जिला प्रशासन के अधिकारियों का कहना है भले ही यमुना का जलस्तर बढ़ रहा है, फिलहाल बाढ़ जैसी स्थिति दिल्ली में नहीं होगी।

सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग की नोडल अफसर व पूर्वी जिलाधिकारी सोनिका सिंह और प्रीत विहार एसडीएम राजेंद्र कुमार ने बोट से यमुना का निरीक्षण किया और माइक से मुनादी करके लोगों से अपील की कि वह यमुना किनारे पर न आएं। झुग्गियों को खाली करके लोगों को अपना सामान लेकर सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा है। दिल्ली पुलिस को निर्देश दिए गए हैं कि वह यमुना किनारे गश्त करे, कोई भी वहां नजर आता है तो उसे सुरक्षित स्थान पर भेजे। अगर वह बात नहीं मानता तो सख्त कार्रवाई करे।

जिलाधिकारी सोनिका सिंह ने कहा कि शुक्रवार सुबह छह बजे बैराज से 20,485 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है, जबकि रात आठ बजे 37,109 क्यूसेक पानी छोड़ा। यहां के प्रशासन के अधिकारी हरियाणा के अधिकारियों के संपर्क में हैं, प्रशासन के अधिकारी जलस्तर पर बारीकी से नजर रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि खादर क्षेत्र में जो लोग रहते हैं, उनके राहत शिविर की व्यवस्था भी प्रशासन की ओर से की जा रही है। अलग-अलग प्वाइंट बनाकर मोटर बोट खड़ी की गई है, ताकि जल्द से जल्द लोगों तक मदद पहुंच सके।

  • यमुना का चेतावनी स्तर : 204.50 मीटर
  • यमुना का खतरे का स्तर 205.33 मीटर

Edited By: Jp Yadav