नई दिल्ली [रीतिका मिश्रा]। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने शुक्रवार दोपहर में 12वीं कक्षा का परिणाम जारी कर दिया। सीबीएसई के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब 12 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को बिना परीक्षा कराए उत्तीर्ण घोषित किया गया। यहां यह अहम जानकारी भी दे दें कि सीबीएसई इस साल छात्रों को एक साथ मार्कशीट और सर्टिफिकेट जारी करेगा।

दरअसल, कोरोना महामारी के चलते बोर्ड परीक्षाओं को रद करने के बाद मूल्यांकन की चुनौतियों और परिणाम को जारी करने की जद्दोजहद के बीच शुक्रवार को केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने 12वीं का परिणाम जारी कर दिया। बोर्ड ने ये परिणाम 30-30-40 फार्मूले पर जारी किया है। इसमें 12वीं के 40 फीसद अंक, 11वीं के 30 फीसद अंक और 10वीं के 30 फीसद अंक जोड़े हैं।

14 लाख से अधिक छात्रों ने कराया था पंजीकरण

सीबीएसई द्वारा उपलब्ध कराई गई आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, 12 लाख से अधिक छात्रों ने बोर्ड की ये परीक्षा उत्तीर्ण की है। परीक्षा में 14 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया था। वहीं, बोर्ड ने इस साल भी मेरिट लिस्ट नहीं जारी की है। बोर्ड के अधिकारियों ने स्पष्ट किया कि इस साल विषयवार मेरिट सूची भी नहीं जारी की जाएगी और ना ही किसी छात्र का मेरिट सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा।

छह हजार छात्रों का परिणाम नहीं किया गया जारी

सीबीएसई ने 65184 छात्रों का परिणाम फिलहाल नहीं जारी किया है। बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक इन छात्रों का परिणाम पांच अगस्त कर घोषित किया जाएगा। बोर्ड के मुताबिक 1060 स्कूलों के पास संदर्भ साल (रेफरेंस ईयर) का डाटा नहीं था। ऐसे में इन स्कूलों के लगभग छह हजार छात्र और कुछ अन्य स्कूलों के छात्रों के परिणाम में फिलहाल ‘रिजल्ट लेटर’ लिख कर आएगा।

गौरतलब है कि हमेशा की तरह इस बार भी परिणाम में लड़कियों ने लड़कों पर बाजी मारी है। लड़कों की तुलना में लड़कियां अधिक पास हुई हैं।

 Punjab Assembly Elections 2022: पंजाब विधानसभा चुनाव में जीत के लिए अरविंद केजरीवाल सरकार का एक और 'मास्टर स्ट्रोक'

Edited By: Jp Yadav