नई दिल्ली, एएनआइ। गर्मी में इजाफा होने के साथ दिल्ली-एनसीआर में आग की घटनाएं भी बढ़ गई हैं। ताजा मामला दक्षिण दिल्ली का है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, ग्रेटर कैलाश इलाके में स्थित एक प्राइवेट पैथोलॉजी लैब में सोमवार सुबह अचानक आग लग गई। सूचना पर पहुंची दमकल की चार गाड़ियां आग पर काबू पाने में जुटी हुई हैं।  इससे पहले पिछले सप्ताह मंगलवार रात करीब 11 बजे विकासपुरी इलाके में स्थित यूके नर्सिंग होम में आग चल गई थी। इसके बाद सूचना पर फायर टेंडर की कुल 8 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं और आग पर काबू पाया। इस दौरान अस्पताल में भर्ती मरीजों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट किया गया। यह राहत की बात है कि आग के इस हादसे में किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई। वहीं, आग की सूचना से अस्पताल में अफरा-तफरी मच गई थी। इस दौरान अस्पताल मैनेजमेंट ने आग की सूचना फायर डिपार्टमेंट को दी थी।  दिल्ली के इस कोविड अस्पताल में कुल 26 मरीज भर्ती थे। इसमें से 17 मरीज कोविड के थे, जबकि बाकी मरीज दूसरी बीमारियों के चलते अस्पताल में भर्ती कराए गए थे। सभी को सुरक्षित बचाकर दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इस दिन करीब 25 मिनट तक ऑक्सीजन बाधित रहने से उत्तराखंड में हरिद्वार जिले के रुड़की में एक निजी अस्पताल में पांच कोरोना संक्रमितों की मौत होने का मामला सामने आया था। यह घटना 3 मई की देर रात करीब 1:30 बजे की थी। जान गंवाने वाले लोगों में एक मरीज वेंटिलेटर पर था और चार ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे। हरिद्वार जिला प्रशासन की ओर से कहा गया था कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है, समय रहते अस्पताल प्रबंधन की ओर से सूचित नहीं किया गया। पूरी घटना की जांच कराई जाएगी। अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि ऑक्सीजन खत्म होने के बारे में प्रशासन को अवगत करा दिया गया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप