जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : अक्सर यह देखा जाता है कि पुलिस वारदात के बाद मौके पर पहुंचती है, लेकिन ताजा मामला इससे उलट है। दिल्ली पुलिस के पीसीआर कर्मियों की तत्परता से एक ट्रेन हादसा होने से बच गया। दरअसल सोमवार की सुबह पीसीआर कर्मियों को नारायणा के समीप रेलवे लाइन टूटे होने की सूचना मिली थी। समय रहते पुलिसकर्मियों ने इसकी जानकारी रेलवे कर्मिर्यो को देने के साथ ही ट्रेन रुकवाने में अहम भूमिका निभाई। समय रहते ट्रेन रोके जाने से हादसा के साथ ही कई लोगों की जान बच पाईं।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक सुबह करीब साढ़े सात बजे किसी ने पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी थी कि कीर्ति नगर थाना क्षेत्र के नारायणा विहार एफसीआइ गोदाम के समीप रेलवे ट्रैक टूटा हुआ है। इसकी जानकारी दक्षिण-पश्चिम जिला पीसीआर के इंचार्ज इंस्पेक्टर श्रीकृष्ण को दी गई। बाद में घटना के बारे में क्षेत्र में मौजूद जेबरा-61 के पुलिसकर्मियों को बताया गया। पीसीआर वैन में मौजूद एएसआइ जगन्नाथ और हवलदार विक्रम सिंह मौके पर पहुंचे तो रेलवे ट्रैक टूटा देख उनके होश उड़ गए।

उसी ट्रैक पर बरेली से रेवाड़ी जाने वाली यात्री गाड़ी (54086) आने वाली थी। पुलिस के मुताबिक वहां पहुंचे पुलिसकर्मियों ने ट्रैक टूटे होने की सूचना फाटक पर मौजूद रेलवे कर्मियों को दी। वहीं विक्रम सिंह ने लाइनमैन की लाल शर्ट उतार ट्रेन के सामने लहराने लगे। माना जा रहा है कि इन गतिविधियों को देख ट्रेन के चालक को किसी गड़बड़ी का अहसास हुआ और उसने ट्रेन रोक दी। ट्रैक की मरम्मत के बाद इस रेल खंड पर दोबारा से ट्रेनों का परिचालन शुरू किया गया। पुलिस अधिकारियों ने इस घटना में तत्परता दिखाने वाले पुलिसकर्मियों के कार्य की खासी सराहना की है। वहीं उन्हें सम्मानित किए जाने पर भी विचार किया जा रहा है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर