जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : ऑल इंडिया नेटवर्क ऑफ सेक्स वर्कर्स ने अपने अधिकार व सम्मान सुनिश्चित करने के मकसद से राजधानी में दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन किया। कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित सम्मेलन में झारखंड, उड़ीसा, राजस्थान, बिहार, पश्चिम बंगाल समेत तेरह राज्यों के सेक्स वर्कर संगठनों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर उन्होंने अपने अधिकार व सम्मान के लिए राष्ट्र व्यापी अभियान शुरू करने का एलान किया। संगठनों के प्रवक्ताओं ने कहा कि अभियान का उद्देश्य वर्करों की चुप्पी तोड़ना, उनकी आवाज को सरकारों, जनप्रतिनिधियों व नागरिक संगठनों तक पहुंचाना है।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार व एड्स पर बने स्वतंत्र आयोग के पूर्व अध्यक्ष सी. रंगराजन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए उन्हें संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में इस बात पर सहमति जताई कि सेक्स वर्करों के अंदर सामाजिक असुरक्षा का भाव खत्म होना जरूरी है। रंगराजन ने इसके लिए विस्तृत व व्यवस्थागत योजना की आवश्यकता बतलाई। ताकि उनमें आत्म सम्मान की भावना का विकास हो और वे सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय हों।

कोट -

सेक्स वर्करों के बच्चों को शिक्षा का अधिकार मिले। उनके कार्य को पेशे के रूप में मान्यता मिले। साथ ही नाबालिगों की ट्रैफिकिंग और लड़कियों को जबरन इस धंधे में धकेलने पर पर रोक लगाई जाए।

-अध्यक्ष भारती डे, अध्यक्ष, एआइएनएसडब्ल्यू

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस