बर्मिघम, प्रेट्र। दक्षिण अफ्रीका पर मिली जीत के साथ टूर्नामेंट में अपना वजूद बनाए रखने वाली पाकिस्तानी टीम को विश्व कप में 'करो या मरो' के मुकाबले में बुधवार को शानदार फॉर्म में चल रही न्यूजीलैंड से खेलना है।

चिरप्रतिद्वंद्वी भारत से हारने के बाद जबर्दस्त आलोचना झेल रही पाकिस्तानी टीम ने दक्षिण अफ्रीका को पिछले मैच में 49 रन से हराया। उसकी आगे की राह हालांकि आसान नहीं है। पाकिस्तान के दो जीत और तीन हार के बाद छह मैचों में पांच अंक हैं। सरफराज अहमद और उनकी टीम को अब ना सिर्फ बाकी तीनों मैच जीतने होंगे, बल्कि दूसरे मैचों के नतीजे भी अनुकूल आने की दुआ करनी होगी। पाकिस्तान के आक्रमण की धुरी तेज गेंदबाज मुहम्मद आमिर रहे हैं जिन्होंने 15 विकेट चटकाए हैं। दूसरे छोर से हालांकि उन्हें सहयोग नहीं मिल सका। पहले मैच के बाद बाहर किए गए बायें हाथ के बल्लेबाज हैरिस सोहेल ने पिछले मैच में वापसी करके 59 गेंद में 89 रन बनाए। शादाब खान और वहाब रियाज ने पिछले मैच में तीन तीन और आमिर ने दो विकेट लिए। इस मैच में गेंदबाज और बल्लेबाज मिलकर अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब रहे, लेकिन पाकिस्तान की फील्डिंग अब तक बहुत लचर रही है।

दूसरी ओर न्यूजीलैंड अभी तक अपराजेय रहा है और उसके छह मैचों में 11 अंक हैं। कप्तान केन विलियमसन ने मोर्चे से अगुआई करके संकटमोचक की भूमिका निभाई है। दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने शतक लगाकर टीम को जीत दिलाई। रॉस टेलर ने भी रन बनाए हैं, लेकिन कोलिन मुनरो और मार्टिन गुप्टिल अभी तक नहीं चले हैं। गेंदबाजी में ट्रेंट बोल्ट और लॉकी फग्र्यूसन भी अच्छी फॉर्म में हैं। उनके अलावा जेम्स नीशाम और कोलिन डि ग्रैंडहोम भी ऑलराउंडर के रूप में उपयोगी साबित हुए हैं। कीवी टीम निर्धारित समय में ओवर पूरे करने में नाकाम रही है और एक मैच में और अगर ऐसा रहता है तो विलियमसन पर निलंबन लग सकता है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjay Savern