गोल्ड कोस्ट, प्रेट्र।  सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना की अर्धशतकीय पारी के बाद भी भारतीय महिला टीम रविवार को आस्ट्रेलिया से तीसरे टी-20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में 14 रनों से हार गई। आस्ट्रेलिया के पांच विकेट पर 149 रन के जवाब में भारतीय टीम छह विकेट पर 135 रन ही बना सकी।

आस्ट्रेलिया ने दोनों देशों के बीच खेली गई बहु-प्रारूपीय सीरीज को 11-5 अंकों से अपने नाम किया। भारतीय टीम के इस दौरे पर सीरीज विजेता का निर्धारण वनडे (तीन मैच), टेस्ट (एक मैच) और टी-20 अंतरराष्ट्रीय (तीन मैच) के समग्र नतीजे के आधार पर किया गया है। आस्ट्रेलियाई टीम ने तीन मैचों की वनडे सीरीज 2-1 और टी-20 सीरीज 2-0 से जीती, जबकि ऐतिहासिक डे-नाइट टेस्ट मैच ड्रा रहा था।

जीत के लिए 150 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के लिए मंधाना ने 49 गेंद में 52 रन की पारी खेलने के साथ जेमिमा रोड्रिग्स (23) के साथ दूसरे विकेट के लिए 57 रन की साझेदारी कर अच्छा मंच तैयार किया था, लेकिन टीम ने बीच के ओवरों में 10 रन के अंतर में चार विकेट गंवा दिए। आस्ट्रेलिया के लिए निकोल कैरी ने चार ओवर में 42 रन देकर दो जबकि एश्ले गार्डनर, अनाबेल सदरलैंड और जार्जिया वेयरहम ने एक-एक विकेट लिया। इस तरह भारत का आस्ट्रेलिया दौरे का अंत निराशाजनक तरीके से हुआ।

रविवार को लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को दूसरे ओवर में ही शेफाली वर्मा (01) के आउट होने से झटका लगा। शानदार लय में चल रही मंधाना ने पांचवें ओवर में तीन चौके जड़कर टीम की वापसी करवाई। उन्होंने रोड्रिग्स के साथ संभल कर खेलते हुए 10वें ओवर में टीम के स्कोर को 54 रन तक पहुंचा दिया था। रोड्रिग्स ने रन गति तेज करने के लिए वेयरहम के खिलाफ 11वें ओवर में चौका जड़ा, लेकिन फिर से इसी कोशिश में अपना विकेट गंवा दिया। मंधाना ने 15वें ओवर कैरी के खिलाफ चौका लगाकर 46 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया, लेकिन इसी ओवर की पांचवीं गेंद पर कप्तान मैग लैनिंग को कैच थमा बैठीं।

भारतीय टीम का 15 ओवर के बाद स्कोर तीन विकेट पर 93 रन था और उसे जीत के लिए 30 गेंद में 57 रन चाहिए थे। टीम ने हालांकि अगली 13 गेंदों में कप्तान हरमनप्रीत कौर (13) सहित तीन विकेट गंवा दिए। पिछले मैच में बड़े शाट लगाने वाली पूजा वस्त्राकर (05) कैरी के खिलाफ 17वें ओवर में चौका लगाने के बाद अगली गेंद पर बोल्ड हो गईं। यास्तिका भाटिया की जगह टीम में शामिल हुई हरलीन देओल (02) रन आउट होकर पवेलियन लौटीं। विकेटकीपर रिचा घोष ने आखिरी ओवर में दो छक्के और एक चौका जड़ा, लेकिन तब तक मैच भारत के हाथ से निकल गया था। उन्होंने 11 गेंद में नाबाद 23 रन बनाए। दीप्ति शर्मा नौ रन पर नाबाद रहीं।

इससे पहले सलामी बल्लेबाज बेथ मूनी (61) की अर्धशतकीय पारी के बाद तहलिया मैक्ग्रा की नाबाद 44 रन की आक्रामक पारी के दम पर आस्ट्रेलिया ने पांच विकेट पर 149 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। मूनी ने 43 गेंद की पारी में 10 चौके लगाए, जबकि पिछले मैच में टीम को जीत दिलाने वाली मैक्ग्रा ने एक बार फिर बल्ले से उपयोगी योगदान देते हुए 31 गेंद की नाबाद पारी में एक छक्का और छह चौके जड़े। दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 44 रन की अहम साझेदारी भी निभाई।

हरमनप्रीत ने टास जीतकर क्षेत्ररक्षण का फैसला किया जिसे तेज गेंदबाज रेणुका सिंह दूसरे ओवर में एलिसा हीली को विकेटकीपर रिचा घोष के हाथों कैच कराकर सही साबित किया। लैनिंग लय हासिल कर रही थीं लेकिन सातवें ओवर में राजेश्वरी गायकवाड़ की गेंद पर हिट विकेट हो गई। उन्होंने 14 रन बनाए। इसके बाद वस्त्राकर ने गार्डनर (01) को रिचार के हाथों कैच कराया तो वहीं एलिसा पेरी दीप्ति की गेंद पर बड़ा शाट खेलने के प्रयास में वस्त्राकर को कैच थमा बैठीं। उन्होंने आठ रन बनाए। टीम 12वें ओवर में 73 रन पर चौथा विकेट गंवाकर संघर्ष कर रही थी, लेकिन पिछले मैच की तरह एक बार मूनी और मैक्ग्रा ने संकटमोचक की भूमिका निभाई।

राजेश्वरी ने मैच के 18वें ओवर मूनी को हरमनप्रीत के हाथों कैच कराया लेकिन इसी ओवर में मैक्ग्रा ने छक्का और फिर चौका जड़कर 16 रन बटोर लिए। मैक्ग्रा ने 19वें ओवर में शिखा पांडेय के खिलाफ चौका जड़ा, जबकि वेयरहम (नाबाद 13) ने 20वें ओवर में दीप्ति की गेंद को सीमा रेखा के पार पहुंचाया। इन दोनों ओवरों से 10-10 रन बने। इस तरह से आस्ट्रेलिया ने आखिरी तीन ओवरों में 36 रन बटोरे। भारत के लिए राजेश्वरी ने चार ओवर में 37 रन देकर दो जबकि रेणुका, वस्त्राकर और दीप्ति ने एक-एक विकेट लिया। आस्ट्रेलिया ने दूसरा टी-20 चार विकेट से जीता था, जबकि पहला टी-20 बारिश की भेंट चढ़ गया था।

Edited By: Sanjay Savern