खेल संवाददाता, लखनऊ। रणजी ट्रॉफी के नॉकआउट दौर में पहुंचने की उम्मीद को जिंदा रखते हुए उत्तर प्रदेश ने हिमाचल प्रदेश के खिलाफ पहले दिन बेजोड़ प्रदर्शन किया और युवा स्विंग मास्टर आकिब खान (5/42) की घातक गेंदबाजी के दम पर मेहमान टीम को पहली पारी में महज 220 रनों पर आउट कर दिया। हालांकि, इसके जवाब में खेलने उतरे मेजबानों को अलमास शौकत (08) के रूप में बड़ा झटका लगा। पहले दिन का खेल खत्म होने तक उप्र ने एक विकेट खोकर 23 रन बनाए हैं। आर्यन जुयाल आठ और समीर रिजवी दो रन बनाकर क्रीज पर डटे हुए हैं। इसके साथ ही आकिब सबसे कम उम्र में पांच विकेट हासिल करने वाले उप्र के पहले गेंदबाज बने।

इससे पहले उत्तर प्रदेश के कप्तान अंकित राजपूत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया। लखनऊ में अफगानिस्तान की अंडर-19 टीम के खिलाफ भारत के लिए खेलने वाले युवा तेज गेंदबाज आकिब ने अपनी स्विंग से हिमाचल प्रदेश के बल्लेबाजों को क्रीज पर टिकने नहीं दिया। सिर्फ 16 साल की उम्र में दूसरा रणजी मुकाबला खेल रहे आकिब ने इकाना स्टेडियम की घसियाली पिच का पूरा फायदा उठाया। इससे पहले 2018-19 में बीसीसीआइ की विजय मर्चेट ट्रॉफी और कूच बिहार ट्रॉफी में भी आकिब ने अपनी बेहतरीन गेंदबाजी से खूब सुर्खियां बटोरी थी। जब हिमाचल प्रदेश की टीम का स्कोर एक रन था तभी ओपनर आरआइ ठाकुर के रूप में उप्र को पहली सफलता मिली।

हालांकि, इसके बाद राघव धवन (31) और आकाश वशिष्ट (44) ने पारी को संभालने का प्रयास किया। इसी बीच, जब हिमाचल का कुल स्कोर 66 रन था तब आकिब ने राघव और अमित कुमार (01) को आउट कर उप्र को बड़ी सफलता दिलाई। इसके बाद 105 रनों के कुल स्कोर तक हिमाचल के पांच बल्लेबाज पवेलियन लौट चुके था। एक समय लग रहा था कि मेहमान टीम 150 रन के करीब सिमट जाएगी, लेकिन मध्यक्रम में निखिल गांगटा ने 88 गेंदों पर सात चौकों की मदद से 49 रन की पारी खेली। दूसरे छोर पर विकेटकीपर बल्लेबाज अंकुश वैश्य ने 72 गेंदों पर सात चौको की मदद से 47 रन जोड़कर टीम का कुल स्कोर 200 के पार पहुंचाया। इन दोनों के आउट होने के बाद हिमाचल की पूरी टीम 70.2 ओवर में 220 रनों पर ढेर हो गई। आकिब का अच्छा साथ अंकित राजपूत (3/57) ने निभाया।

हितेन के शतक से दिल्ली का मजबूत स्कोर

नई दिल्ली। सलामी बल्लेबाज हितेन दलाल के शतक के अलावा हिम्मत सिंह और जोंटी सिद्धू के अर्धशतक से दिल्ली ने करो या मरो के रणजी ट्रॉफी एलीट ग्रुप-ए मुकाबले के पहले दिन राजस्थान के खिलाफ छह विकेट पर 389 रन बनाए।

हितेन ने 93 गेंद में 18 चौकों और एक छक्के की मदद से 102 रन की तूफानी पारी खेली लेकिन सिद्धू (92) और हिम्मत (90) शतक से चूक गए। राजस्थान ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया जिसके बाद हितेन (102) और अनुज रावत (45) ने पहले विकेट के लिए 142 रन जोड़कर टीम को शानदार शुरआत दिलाई। अनिकेत चौधरी ने रावत को आउट करके इस साझेदारी को तोड़ा। तनवीर उल हक ने इसके बाद दिल्ली के कप्तान ध्रुव शॉरी (01) को एलबीडब्ल्यू किया।

हितेन भी करियर का पहला शतक पूरा करने के बाद राहुल चाहर की गेंद पर एलबीडब्ल्यू हो गए। तनवीर ने इसके बाद नितीश राणा (24) को भी पवेलियन भेजा जिससे दिल्ली का स्कोर बिना विकेट खोए 142 रन से चार विकेट पर 189 रन कर दिया। सिद्धू और हिम्मत ने इसके बाद 147 रन की साझेदारी करके दिल्ली की पारी को संवारा। सिद्धू को अशोक मेनारिया ने बोल्ड किया जबकि हिम्मत ने महिपाल लोमरोर की गेंद पर विकेटकीपर मनिंदर सिंह को कैच थमाया। दिन का खेल खत्म होने पर क्षितिज शर्मा 11 जबकि कुंवर बिधूड़ी 12 रन बनाकर खेल रहे हैं।

138 रन पर सिमटी बंगाल की टीम

पटियाला। विनय चौधरी (6/54) की घातक गेंदबाजी के दम पर पंजाब ने बुधवार को रणजी मैच के दौरान बंगाल को पहली पारी में 138 रनों पर समेट दिया। पहले दिन का खेल खत्म होने तक पंजाब ने भी 93 रनों पर अपने तीन विकेट गंवा दिए। कप्तान मनदीप सिंह 29 रन बनाकर मैदान पर डटे हुए थे। टॉस जीतकर बंगाल ने पहले बल्लेबाजी की। कप्तान अभिमन्यु ईश्वरन के साथ कौशिक घोष ने पारी का आगाज किया।

ईश्वरन उस समय आउट हुए जब टीम का कुल स्कोर आठ रन था। टीम के लिए बल्लेबाज मनोज तिवारी ने नाबाद 73 रन (सात चौके, एक छक्का) बनाए। वह एक छोर पर डटे रहे और दूसरे पर विकेट गिरते रहे। बंगाल के पांच खिलाड़ी अपना खाता खोले बिना ही पवेलियन लौट गए। जवाब में पंजाब ने भी 93 रन ही तीन विकेट खो दिए हैं। रोहन मारवाह ने 48 रन, अभिजीत गर्ग ने 14 रन बनाए जबकि शरद लांबा केवल एक रन ही बना सके।

हरियाणा के खिलाफ जम्मू कश्मीर के 340 रन

जम्मू। राहुल तेवतिया के सात विकेट की मदद से हरियाणा ने रणजी ट्रॉफी ग्रुप सी मैच के पहले दिन जम्मू कश्मीर को पहली पारी में 340 रन पर आउट कर दिया लेकिन उसका भी पहला विकेट जल्दी निकल गया। जम्मू कश्मीर ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया। शुरुआती दो विकेट जल्दी गिरने के बाद शुभम खजूरिया और शुभम पुंडीर ने पारी को संभाला।

खजूरिया ने 71 गेंद में आठ चौकों और तीन छक्कों की मदद से 62 रन बनाए। वहीं, पुंडीर ने पारी के सूत्रधार की भूमिका निभाते हुए 183 गेंद में 84 रन बनाए जिसमें 10 चौके शामिल थे। कप्तान परवेज रसूल 49 रन बनाकर पवेलियन लौटे। इसके बाद नौवें नंबर के बल्लेबाज रामदयाल ने 43 रन की पारी खेली। हरियाणा के तेवतिया ने 22 ओवर में 98 रन देकर सात विकेट झटके। जवाब में हरियाणा ने दूसरे ही ओवर में हिमांशु राणा का विकेट गंवा दिया। उसका स्कोर एक विकेट पर दो रन था।

 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस