मुंबई। किसी भी खेल में आक्रामक होना जायज है लेकिन जब ये आक्रमकता अपनी हदें पार कर जाए तो ये खेल को शर्मसार करने का काम करती है। ऐसा ही कुछ मंगलवार को हुए आइपीएल-7 के मैच में हुआ, जहां मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की बीच मुकाबला खेला गया। मैच में सब ठीक चल रहा था लेकिन पहली पारी का 16वां ओवर कुछ ऐसा रहा कि देखते-देखते जेंटलमैन गेम शर्मसार हो गया।

पारी का 16वां ओवर बेहद नाटकीयता से भरा रहा। बैंगलोर के ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने 16वां ओवर फेंका। उस ओवर की चौथी गेंद पर स्टार्क ने बाउंसर फेंकने के बाद पोलार्ड से कुछ कहा। पोलार्ड को ये अच्छा नहीं लगा तो उन्होंने संयम बरतते हुए मुंह नीचे किया और हाथ से स्टार्क को वापस जाकर गेंदबाजी करने को कहा। इसके बाद जब उन्होंने 5वीं गेंद फेंकी, लेकिन किसी वजह से पोलार्ड गेंद फेंकने से ठीक पहले विकेट से हट गए। आमतौर पर ऐसी स्थिति में गेंदबाज रुक जाते हैं लेकिन स्टार्क ने पूरी जान लगाकर गेंद फेंकी और पोलार्ड के शरीर को निशाना बनाया, जिससे पोलार्ड को इतना गुस्सा आ गया कि उन्होंने स्टार्क की ओर बल्ला फेंका, मानो वह उन्हें मार रहे हों, लेकिन पोलार्ड ने बल्ला वहीं पटक दिया। ऐसे में स्टार्क ने इशारों में कहा पोलार्ड पागल हो गए हैं जिस पर स्टेडियम में मौजूद मुंबई के हजारों फैंस ने तीखी प्रतिक्रिया (हूटिंग) भी दी। इसके बाद जब अंत में स्टार्क के ही ओवर में रोहित शर्मा के साथ बेहतर तालमेल ना होने की वजह से पोलार्ड रन आउट हो गए, तो पवेलियन जाने से पहले पोलार्ड ने स्टार्क को अपना जूता दिखा दिया। इस पूरे झगड़े के दौरान हर मिनट हदें पार हुईं और देखते-देखते ये मामला सोशल नेटवर्किग साइट्स से लेकर हर जगह चर्चा का विषय बन गया।

आइपीएल की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप