कोलकाता। स्पॉट फिक्सिंग का ऐसा प्रभाव दिख रहा है कि हर खिलाड़ी दर्शकों को गुनहगार नजर आने लगा है। शुक्रवार की रात मुंबई इंडियंस और राजस्थान रॉयल्स के बीच मैच में कैच छूटने, वाइड बॉल होने, तौलिया खोंसने वाले खिलाड़ी के बारे में मन में सवाल उठने लगा कि कहीं यह फिक्स तो नहीं है।

बीसीसीआइ के अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन की गिरफ्तारी के बाद स्थिति बदल गई है। रविवार को ईडन में चेन्नई और मुंबई के बीच फाइनल खेला जाना है। शनिवार को मुंबई से लेकर दिल्ली और कोलकाता तक जो कुछ होता रहा उसका सीधा असर फाइनल पर पड़ने वाला है। स्टेडियम में मैच देखने के लिए क्लब हाउस का टिकट कटाने वाले भी संदेह के घेरे में दिख रहे हैं। क्योंकि, क्वालीफाइंग मुकाबले के दौरान क्लब हाउस में बैठे हर चार दर्शकों के पीछे सादे लिबास में आइबीकर्मी को तैनात किया गया था।

भ्रष्टाचारनिरोधी शाखा के अधिकारी मैदान में लगे 135 कैमरों से नजर रखे हुए थे और वीडियो फुटेज को लेकर बार-बार चर्चा कर रहे थे। इतना ही नहीं क्लब हाउस में बैठे हर दर्शक से नाम, पता, क्या करते हैं आदि लिखवा कर पुलिस ने अपने पास रख लिया था। ईडन में अब तक जो नहीं हुआ था, वह सब फाइनल में देखने को मिल सकता है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि खिलाड़ियों से लेकर टीम प्रबंधन से जुड़े लोग और ड्रेसिंग रूप से लेकर होटल, मैदान और क्लब हाउस पर पैनी नजर रहेगी।

फाइनल मुकाबले से पहले ही जहां खिलाड़ी ठहरे हैं उस होटल और स्टेडियम को पूरी तरह से पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। हर, उस व्यक्ति पर निगरानी रखी जा रही है, जो टीम से जुड़ा हुआ है, या फिर किसी खिलाड़ी का रिश्तेदार और दोस्त है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप