जागरण न्यूज नेटवर्क, चेन्नई। स्पॉट फिक्सिंग मामले में दामाद और चेन्नई सुपरकिंग्स टीम के सीईओ गुरुनाथ मयप्पन का नाम आने के बाद बीसीसीआइ अध्यक्ष एन श्रीनिवासन को इस्तीफा देने पर मजबूर करने की सारी कवायद रविवार को बेकार हो गई। लगभग ढाई घंटे तक चली बीसीसीआइ कार्यसमिति की 'फिक्स' बैठक तमाशे से कम नहीं रही।

बैठक में श्रीनिवासन ने अड़ियल रुख अपनाते हुए बोर्ड अध्यक्ष के पद से इस्तीफा नहीं दिया। यहां तय हुआ कि श्रीनिवासन जांच पूरी होने तक सिर्फ अपने पद से दूर रहेंगे और तब तक पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया क्रिकेट बोर्ड के संचालन के लिए अंतरिम व्यवस्था के तौर पर चार सदस्यीय पैनल की अध्यक्षता करेंगे।

शरद पवार खेमे को धता बताने वाले फैसले में बोर्ड की कार्यसमिति ने फैसला किया कि डालमिया बीसीसीआइ के रोजमर्रा के कामकाज का संचालन करेंगे। अरुण जेटली, राजीव शुक्ला और अनुराग ठाकुर जैसे प्रमुख सदस्य जगमोहन डालमिया के पक्ष में थे। पवार खेमा पूर्व प्रमुख शशांक मनोहर को डालमिया की जगह चाहता था।

बीसीसीआइ से इस्तीफा देने वाले जगदाले और शिर्के आश्चर्यजनक रूप से इस बैठक में शामिल हुए, लेकिन शुक्ला, जेटली और अनुराग चेन्नई में मौजूद नहीं थे। यह तीनों वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए इस बैठक से जु़ड़े हुए थे। यह तिकड़ी श्रीनिवासन के खिलाफ नरम नजर आई। डालमिया अब संजय जगदाले की जगह तीन सदस्यीय जांच आयोग में एक नए सदस्य की नियुक्ति करेंगे। यह आयोग गुरुनाथ मयप्पन के खिलाफ स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी के आरोपों की जांच करेगा। तीन सदस्यीय पैनल में तमिलनाडु हाई कोर्ट के दो सेवानिवृत्त जज के अलावा तीसरे सदस्य जगदाले थे।

बोर्ड के 24 सदस्यों ने बैठक में भाग लिया, लेकिन श्रीनिवासन ने कहा कि किसी ने उनसे इस्तीफे की मांग नहीं की। पंजाब क्रिकेट संघ के अध्यक्ष आईएस बिंद्रा ने हालांकि दावा किया कि उन्होंने यह मांग की। कार्यसमिति के दो सीनियर सदस्यों ने भी कहा कि बैठक में अध्यक्ष के इस्तीफे की बात नहीं हुई। बैठक में सचिव जगदाले और कोषाध्यक्ष अजय शिर्के से भी इस्तीफे के फैसले पर पुनर्विचार करके बोर्ड को 24 घंटे के भीतर जवाब देने के लिए कहा गया। हालांकि दोनों ने बैठक के बाद कहा कि वे इस्तीफा वापस नहीं लेंगे।

आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला ने शनिवार को इस्तीफा दिया था, जबकि बोर्ड के कोषाध्यक्ष अजय शिर्के और सचिव संजय जगदाले ने इससे एक दिन पहले अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

'मैंने घोषणा की कि जांच पूरी हो जाने तक मैं अध्यक्ष पद नहीं छोड़ूंगा। बैठक के दौरान मुझसे किसी ने इस्तीफा देने के लिए नहीं कहा।' -एन श्रीनिवासन, बीसीसीआइ अध्यक्ष

'आज जो हुआ उससे मैं बहुत ज्यादा आहत हूं। इस बैठक और मैच फिक्सिंग में क्या अंतर है।' -जयवंत लेले, पूर्व बीसीसीआइ सचिव

'बैठक में मुझसे इस्तीफा वापस लेने के लिए कहा गया लेकिन मैं अपने फैसले पर कायम हूं। क्रिकेट में खेल के साथ खेल हो रहा है और इससे मैं दुखी हूं।' -संजय जगदाले, पूर्व बीसीसीआइ सचिव

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप