मुंबई, पीटीआइ। मुंबई इंडियंस के खिलाफ 68 रनों की तेजतर्रार पारी खेलने वाले ड्वेन ब्रावो से चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी बेहद खुश हैं। धौनी ने कहा कि ब्रावो को जिम्मेदारी लेते देखना बेहद सुखद अहसास रहा है। चेन्नई ने आइपीएल में दो साल के बाद वापसी की है और पहले ही मुकाबले में पिछले बार की चैंपियन मुंबई इंडियंस को एक विकेट से हरा दिया।

धौनी ने कहा कि सीएसके और मुंबई के बीच का मुकाबला हर कोई देखना चाहता है। हम दो साल बाद वापसी कर रहे हैं। जिस तरह से ब्रावो ने बल्लेबाजी की वह बेहतरीन था। वाकई ब्रावो को जिम्मेदारी लेते देखना अच्छा लगा। विश्व कप विजेता कप्तान ने कहा कि 165 रनों के स्कोर का पीछा किया जा सकता था, लेकिन कुछ खिलाड़ियों की चोट परेशानी का सबब बन गई। ऐसे में हमें अगर आगे अच्छा करना है तो खिलाड़ियों की चोट पर अहम ध्यान देना होगा।

पोलार्ड-ब्रावो ने पहनी 400 नंबर की जर्सी

मुंबई इंडियंस के कीरन पोलार्ड और चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के ड्वेन ब्रावो ने आइपीएल-11 के पहले मुकाबले में एक ही नंबर की जर्सी पहनी। इन दोनों की जर्सी के पीछे 400 लिखा था। इसके पीछे एक खास वजह थी। दरअसल दोनों अपनी-अपनी व्यक्तिगत उपलब्धियों का जश्न मनाते हुए 400 नंबर की जर्सी पहनकर उतरे। मैच में 30 गेंद में 68 बनाकर टीम की जीत सुनिश्चित करने वाले ब्रावो ने कहा कि पोलार्ड 400 टी-20 मैच खेलने वाले पहले खिलाड़ी हैं और मैं 400 विकेट लेने वाला पहला गेंदबाज हूं। इसलिए हमने सोचा कि अगर दोनों को पहले मैच में खेलने का मौका मिलता है तो हम कुछ अलग करेंगे।

उन्होंने कहा कि हम दोनों के लिए निजी तौर पर ये बड़ी उपलब्धि हैं। पोलार्ड ने मुंबई इंडियंस और मैंने सीएसके से इसके लिए बात की जिस पर वे राजी हो गए। अगले मैच से हम दोनों अपने नियमित जर्सी नंबर क्रम 47 और 55 के साथ दिखेंगे। ब्रावो के सात छक्के और तीन चौके वाली आतिशी पारी ने मैच का पासा पलट दिया। इस दौरान मुंबई के गेंदबाजों ने आखिरी तीन ओवर में 50 रन लुटाए।

ब्रावो के लिए सबसे यादगार पारी 

30 गेंद में 68 रन की पारी खेलकर चेन्नई सुपर किंग्स को जीत दिलाने वाले ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने इस पारी को अपनी जिंदगी की सबसे यादगार पारी बताया। ब्रावो ने कहा कि मुङो नहीं लगता है कि खेल के तीनों प्रारूपों में मैनें इससे बेहतर कोई पारी खेली है। ऐसे में यह बहुत अनमोल पारी है। ब्रावो ने अपनी पारी में सात छक्के और तीन चौके लगाकर मुंबई इंडियंस के गेंदबाजों की खूब पिटाई की थी। उन्होंने कहा कि आपने देखा होगा जब मैंने अर्धशतक लगाया तो मैंने अपना बल्ला हवा में नहीं उठाया। मुङो पता था कि मेरा कार्य अभी समाप्त नहीं हुआ है। अभी कुछ और आगे जाना है। मैं आखिरी ओवर में आउट हो जाने से काफी निराश था।

मार्कंडेय ने किया कोच को प्रभावित

मुंबई इंडियंस के लिए पदार्पण करने वाले मयंक मार्कंडेय ने अपने कोच महेला जयवर्धने को खासा प्रभावित किया है। मार्कंडेय ने मुंबई इंडियंस के लिए पहले ही मुकाबले में 23 रन देकर तीन विकेट लिए थे, जिसमें चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का भी विकेट शामिल था। विजय हजारे ट्रॉफी में 10 मैचों में 15 विकेट लेने वाले पंजाब के बठिंडा के मयंक ने सैय्यद मुश्ताक अली ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन करके आइपीएल में अपनी जगह पक्की की थी। महेला ने कहा कि मुङो लगता था कि वह अच्छी गेंदबाजी करेगा। हमने उसका बचाव किया। हमने उसको पहली बार हमारे कैंप में देखा था।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें  

Posted By: Pradeep Sehgal