कोलकाता, विशाल श्रेष्ठ। चिन्नास्वामी के बाद ईडन गार्डेस। विरोधी टीम वही, विराट कोहली की रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर। बल्लेबाजों के लिए लंबे समय से मुसीबत बने हुए सुनील नारायण अब गेंदबाजों के लिए भी आफत बन गए हैं। रविवार को ईडन में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर के खिलाफ आइपीएल-11 के पहले मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स के नए कप्तान दिनेश कार्तिक ने भी पिछले कप्तान गौतम गंभीर के सफल फॉर्मूले को आजमाते हुए सुनील नारायण को सलामी बल्लेबाज बनाकर 177 रनों के कठिन लक्ष्य का पीछा करने भेजा, जो फिर कारगर साबित हुआ। नारायण ने ऐसी तूफानी पारी खेली कि पूरा ईडन नारायण-नारायण की आवाज से गूंज उठा।

नारायण ने 17 गेंदों पर जड़ा पचासा

नारायण ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी कर 17 गेंदों पर 50 रन जड़कर कोलकाता की जीत की मजबूत नींव रख दी। मैन ऑफ द मैच नारायण की आातिशी पारी में पांच छक्के और चार चौके शामिल रहे। 19 गेंदों पर कुल 50 रन की पारी खेलकर वह उमेश यादव की गेंद पर बोल्ड होकर पवेलियन लौटे, लेकिन तब तक वह अपने काम को बखूबी अंजाम दे चुके थे। टी-20 क्रिकेट में नारायण का यह पांचवा पचासा है। 29 साल के नारायण ने पिछले सत्र में भी बेंगलूर के खिलाफ ही उसी के मैदान में 15 गेंदों पर 50 रन जड़कर यूसुफ पठान के रिकॉर्ड की बराबरी की थी। उस मैच में उन्होंने 17 गेंदों पर 54 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी। हालांकि उनके उस रिकॉर्ड को पंजाब के सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल ने रविवार को ही दिल्ली के खिलाफ दिन के पहले मैच में ही तोड़ दिया। राहुल ने 14 गेंदों पर अर्धशतक जड़ा।

आइपीएल में सबसे तेज़ अर्धशतक

लोकेश राहुल - 14 गेंद- विरुद्ध दिल्ली डेयरडेविल्स- मोहाली (2018)

यूसुफ पठान- 15 गेंद- विरुद्ध सनराइजर्स हैदराबाद (2014)

सुनील नारायण- 15 गेंद- विरुद्ध रॉयल चैलेंजर बैंगलोर (2017)

सुरेश रैना- 16गेंद- विरुद्ध मुंबई इंडियंस (2014)

सुनील नारायण- 17 गेंद- विरुद्ध रॉयल चैलेंजर बैंगलोर  (2018)

किरोन पोलार्ड- 17 गेंद- विरुद्ध कोलकाता नाइट राइडर्स (2016)

क्रिस मॉरिस- 17 गेंद- विरुद्ध गुजरात लायंस (2017)

क्रिस गेल- 17 गेंद- विरुद्ध पुणे वॉरियर्स (2009)

एड्म गिलक्रिस्ट- 17 गेंद- विरुद्ध दिल्ली डेयरडेविल्स (2009)

कोलकाता को मिली जीत

177 रनों के चुनौतीपूर्ण लक्ष्य को कोलकाता ने छह विकेट खोकर सात गेंदें शेष रहते ही हासिल कर लिया। इसमें कप्तान दिनेश कार्तिक की जिम्मेदारी भरी नाबाद 35 रनों की पारी भी शामिल रही। कार्तिक ने नीतीश राणा के साथ चौथे विकेट के लिए बेहद अहम 55 रन जोड़े। कोलकाता के हाथों बेंगलूर की यह लगातार तीसरी हार है।

बेंगलूर ने बनाए 176 रन 

इससे पहले सलामी बल्लेबाज ब्रेंडन मैक्कुलम (43), डिविलियर्स (44) व मनदीप सिंह की आतिशी बल्लेबाजी की बदौलत बेंगलूर ने कोलकाता के सामने जीत के लिए 177 रनों का चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रखा था। बेंगलूर ने सात विकेट खोकर 176 रन बनाए। मेहमान टीम का स्कोर इससे कहीं ज्यादा होता अगर नीतीश (2/11) ने लगातार दो गेंदों में डिविलियर्स और कोहली का विकेट नहीं चटकाया होता।

कार्तिक का पहले गेंदबाजी का फैसला 

पहली बार कोलकाता टीम की कप्तानी कर रहे दिनेश कार्तिक ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने की ठानी। सलामी बल्लेबाज ब्रेंडन मैकुलम ने मैच की पहली गेंद पर ही चौका जड़कर अपने खतरनाक इरादे जाहिर कर दिए थे। दूसरे सलामी बल्लेबाजी क्विंटन डि कॉक (04) के सस्ते में निपटने के बाद उन्होंने कप्तान कोहली के साथ दूसरे विकेट के लिए 45 रनों की अहम साङोदारी की। नए गेंदबाजी एक्शन के साथ लौटे नारायण के उन्हें क्लीन बोल्ड कर चलता किया।

राणा ने दिए दोहरे झटके 

कोहली-डिविलियर्स की जोड़ी बेहद तेजी से रन बटोर रही थी। कार्तिक ने अचानक चौंकाने वाला निर्णय लेते हुए पार्ट टाइमर नीतीश को गेंद सौंप दी। 15वां ओवर डालने आए राणा ने अपने कप्तान को निराश नही किया और लगातार दो गेंदों में डिविलियर्स और कोहली का विकेट झटककर मेहमान टीम को स्तब्ध कर दिया। राणा ने पहले डिविलियर्स को मिशेल जॉनसन के हाथों लपकवाया, फिर कोहली को क्लीन बोल्ड कर दिया। आखिरी ओवरों में मनदीप ने स्कोर को 176 तक पहुंचाया।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें
अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Pradeep Sehgal