नई दिल्ली, जेएनएन। आइपीएल-12 के 20वें मैच में दिल्ला कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच रोमांचक मुकाबला होने की उम्मीद है। दिल्ली के पास अच्छे गेंदबाज़ों के साथ बड़े शॉट्स लगाने वाले बल्लेबाज भी हैं। इसलिए दिल्ली एम चिन्नास्वामी जैसे हाई-स्कोरिंग ग्राउंड का पूरा फायदा उठाना चाहेगी। 5 में से 3 मैच हारने के बाद दिल्ली जोरदार वापसी के लिए बेताब है। वहीं बैंगलोर के लिए अब तक जो हुआ इससे बुरा नहीं हो सकता। आरसीबी के लिए कोहली और एबी की तूफानी बल्लेबाजी भी मैच नहीं जीता सकी। बैंगलोर अभी तक एक टीम की तरह खेलने में नाकाम रही है। कभी बल्लेबाज चलते हैं तो कभी गेंदबाज। कोलकाता के खिलाफ 205 रन बनाने के बावजूद बैंगलोर के गेंदबाज लक्ष्य का बचाव नहीं कर सके।

ये रिकॉर्ड भी हुआ विराट कोहली के नाम 

विराट कोहली ने अपने आइपीएल करियर में अब तक 86 मैच हारे हैं। जो आइपीएल के इतिहास में किसी भी खिलाड़ी द्वारा सबसे ज्यादा हैं। आपको बता दें कि टूर्नामेंट के इस सीजन में भी विराट की टीम ने बेहद खराब शुरुआत की और अब तक खेले पांचों मैच गंवाए। इस सीजन की शुरुआत से ही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर संघर्ष करती दिख रही है। केकेआर के खिलाफ खेला गया पिछला मैच आराम से जीता जा सकता था। कोलकाता को आखिरी 24 गेंदों में 66 रन की जरूरत थी। दबाव कोलकाता पर होना था लेकिन बैंगलोर ने इतनी खराब गेंदबाजी की कि केकेआर ने 5 बॉल रहते ही लक्ष्य हासिल कर लिया।

इसी हार के बाद कोहली ने आइपीएल के इतिहास में सबसे ज्यादा मैच हारने का अनचाहा रिकॉर्ड अपने नाम किया। ये आंकड़ा कई लोगों को चौंका सकता है क्योंकि विराट कोहली मौजूदा महान क्रिकेटर्स में से एक हैं। हाल ही में विराट टी20 में 8000 रन पूरे करने वाले दूसरे बल्लेबाज बने थे।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को प्लेऑफ में जगह बनाने के लिए अब बचे 9 मैचों में से 7 किसी भी हाल में जीतने होंगे। इसके लिए टीम सिर्फ विराट कोहली पर निर्भर नहीं कर सकती, सभी खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेकर टीम को जीत तक पहुंचाना होगा।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ruhee Parvez