मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, जेएनएन। एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में गुरुवार को खेले गए मैच में मुंबई इंडियंस (MI) ने रॉयल चैलेंचर बैंगलोर (RCB) को छह रनों से हरा दिया। इस मैच के आखिरी बॉल पर आरसीबी को सात रन चाहिए थे। क्रीज पर पांच करोड़ में खरीदे गए बल्लेबाज शिवम दुबे थे। मुंबई की ओर से बॉलिग करते हुए लसिथ मलिंगा आखिरी गेंद पर एक रन ही दिया। मैच खत्म होने के बाद जब देखा गया तो यह गेंद नो बॉल थी। इसके बाद से इस गेंद को ही हार का मुख्य कारण बताया जा रहा है, लेकिन इसके अलावा तीन ऐसी वजहें हैं जिनके चलते आरसीबी को लगातार दूसरे मैच में हार का सामना करना पड़ा।

डेथ ओवर्स में खराब गेंदबाजी: आरसीबी ने आखिरी के ओवरों में खराब गेंदबाजी की। आखिरी के तीन ओवर में 40 रन लुटा दिए। 16वें ओवर की समाप्ति के बाद मुंबई का स्कोर 147 रन था, लेकिन मैच खत्म होने के बाद 187 रन बना लिए। आखिरी के दो ओवरों में आरसीबी के बॉलरों ने 15-15 रन दिए। आरसीबी पिछले सीजन से ही डेथ ओवर में खराब बॉलिंग को लेकर जूझ रही है। इस बार भी इनके बॉलर आखिरी के ओवरों में रन रोकने में नाकाम रहे हैं। इसको लेकर आरसीबी को नया प्लान बनाना पड़ेगा।

कोहली और डिविलियर्स हिट बाकि फ्लॉप:  आरसीबी की तरफ से सिर्फ विराट कोहली और एबी डिविलयर्स ही रन बना सके। आरसीबी ने कुल 181 रन बनाए जिसमें से 116 रन इन दोनों के बल्ले से ही निकले। कोहली के बाद बल्लेबाजी करने आए हेटमायर ने पांच रन, ग्रैंडहोम ने दो रन और शिवम ने नौ रन ही बना सके। वहीं मैच में पारी की शुरुआत करने आए मोईन अली भी सिर्फ 13 रन का ही योगदान दे सके। पिछले मैच में भी आरसीबी की बल्लेबाजी का यही हाल था। गौरतलब है कि आरसीबी की टीम की बल्लेबाजी 46% विराट और डिविलियर्स के ऊपर निर्भर करती है। इस मैच में भी सिर्फ यही दोनों ही चले।

बुमराह का तूफान: आरसीबी की हार की सबसे बड़ी वजह मुंबई का यह बॉलर बना। जहां सभी मुंबई के सभी तेज बॉलर्स ने करीब 11 की औसत से रन लुटाए तो वहीं जसप्रीत बुमराह ने सिर्फ पांच की औसत से रन दिए। बुमराह ने चार ओवर में 20 रन देकर तीन विकट लिया। सबसे खास बात यह रही कि जब आरसीबी को चार ओवर में 41 रन की दरकार थी तब 17 वें ओवर में बुमराह ने सिर्फ एक रन देकर हेटमायर का विकेट भी चटकाया। इसके अलावा मैच में बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे विराट कोहली का विकेट भी बुमराह ने ही लिया।

 

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप