मुंबई, पीटीआइ। आइपीएल-12 में बुधवार को हुए मुकाबले में किरोन पोलार्ड की धमाकेदार 83 रनों की पारी की बदौलत मुंबई ने बुधवार को पंजाब को हराकर चौथी जीत दर्ज की। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस रोमांचक मुकाबले में मेजबान मुंबई ने पंजाब को 3 विकेट से मात दी। रोहित शर्मा की जगह टीम की कप्तानी कर रहे पोलार्ड ने अपनी तूफानी पारी का राज खोलते हुए कहा कि बेहद दबाव के बावजूद उन्होंने बल्लेबाजी करते करते वक्त धैर्य नहीं खोया।    

किंग्स इलेवन पंजाब के दिए 198 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पोलार्ड ने अपनी पारी में 31 गेंदों का सामना करते हुए 10 छक्के और तीन चौके लगाकर मुंबई को जीत की दहलीज तक पहुंचाया। पोलार्ड के आखिरी ओवर में आउट होने के बाद अलजारी जोसेफ ने नाबाद 15 रन बनाए और टीम को जीत दिलाई। पोलार्ड ने मैच के बाद कहा, "कुछ लोग इस बात से सहमत होंगे कि मेरी यह पारी शानदार थी या कुछ असहमत। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि हमने मैच जीता। मैंने दबाव में आकर धैर्य नहीं खोया। मैं यह मैच जीतना चाहता था। अंत तक धैर्य बनाए रखने का फल मिला। 

वेस्टइंडीज के इस खिलाड़ी ने कहा, "टीम में सभी ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। इसलिए क्रिकेट एक टीम का खेल है।" लैड के आउट होने के बाद सूर्यकुमार यादव (21), क्विंटन डि कॉक (24) और इशान किशन (7) के विकेट निरंतर अंतराल पर गिरने के बाद मुंबई इंडियंस दबाव में आते दिखी, लेकिन मैच में कप्तानी कर रहे पोलार्ड ने हार्दिक पंड्या के साथ 41 रनों की साझेदारी करते हुए टीम का स्कोर 100 रनों के पार पहुंचा दिया। हालांकि हार्दिक (13 गेंद में 19 रन) भी अनलकी रहे और बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में डेविड मिलर को कैच थमा दिया। नए बल्लेबाज क्रुणाल पंड्या (1 रन) भी सस्ते में आउट हो गए। 

पोलार्ड 6 या 7वें की जगह चौथे स्थान पर बल्लेबाजी करने आए। उन्होंने कहा, "हमें मैच में ठीक-ठाक शुरुआत मिली। पॉवरप्ले में हमारा स्कोर 50/1 था यानी हर ओवर में 10 रन बने। हमें पता था कि क्या करना है। पिच बेहतरीन थी, बल्लेबाजों के लिए थी। 198 रनों के लक्ष्य का पीछा करना आसान नहीं है और पोलार्ड ने बताया कि हमने तय किया कि इस लक्ष्य तक दो हिस्सों में पहुचेंगे। पंजाब के दो गेंदबाजों पर हमारा फोकस था।    

Posted By: Ruhee Parvez