नई दिल्ली, जेएनएन। IPL 2019 में अब तक कप्तान विराट कोहली का सफर अच्छा नहीं रहा है। विराट ने पिछले पांच मुकाबले लगातार गंवा दिए हैं और इसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने उनकी कप्तानी पर ही सवाल उठा दिए हैं। गंभीर ने कहा कि विराट बल्लेबाज तो बहुत ही अच्छे हैं, लेकिन कप्तान के तौर पर वो अभी चेले हैं। गंभीर ने विराट को नौसिखिया कप्तान करार दिया। वैसे ये पहला मौका नहीं है जब गंभीर ने विराट की कप्तानी पर सवाल उठाए हैं। इससे पहले भी वो कह चुके हैं कि इतनी असफलता के बाद विराट बैंगलोर के कप्तान बने हुए हैं जो अपने आप में बड़ी बात है। इसके जबाव में विराट ने कहा था कि वो बाहर के लोगों की बातों पर ध्यान दें तो क्रिकेट नहीं खेल पाएंगे। 

हार की जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए

गंभीर के मुताबिक आइपीएल में बैंगलोर की टीम कोई कमाल नहीं कर पाई है। पिछले वर्ष नीलामी में इस टीम ने मार्कस स्टोइनिस और नाथन कुल्टर नाइल को अपनी टीम में क्यों शामिल किया, जबकि उन्हें पता था कि ये दोनों खिलाड़ी शुरुआत से टीम के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे। चिन्नास्वामी की पिच पूरी तरह से फ्लैट है तो वहां मैं किसी तेज गेंदबाज के साथ खेलना पसंद करूंगा। बेशक विराट दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाज हैं, लेकिन कप्तान के तौर पर उन्हें बहुत कुछ सीखने की जरूरत है। विराट ने हार की जिम्मेदारी पिछले मैच में गेंदबाजों पर ठहराई पर उन्हें ये जिम्मेदारी खुद लेनी चाहिए। विराट ने सिराज के ओवर को स्टोइनिस से पूरा करवाया जबकि उनके पास पवन नेगी जैसे स्पिनर मौजूद थे और गेंद पर ग्रिप भी अच्छी बन रही थी। रसेल को रोकने के लिए तेज गेंदबाजों का प्रयोग कारगर हो इसकी कोई गारंटी नहीं है। 

पिछले मैच में टिम साउथी ने रसेल के खिलाफ अपनी योजना में बदलाव किया जो सही नहीं था। विराट को यहां पर साउथी को रोकना चाहिए था। उन्होंने जिस तरह की गेंदबाजी की वो निराश करने वाला था। विराट को उन्हें ये बताना चाहिए था के जो योजना रसेल के खिलाफ बनी है उस पर काम करना चाहिए। व्यक्तिगत तौर पर मैं गेल के खिलाफ अपने गेंदबाजों को योजना बदलने से रोकता था बेशक वो बड़े शॉट्स लगा रहे हैं। आपको बता दें कि पिछले मैच में कोलकाता के खिलाफ बैंगलोर ने 205 रन बनाए थे और जीत की स्थिति में थी लेकिन रसेल ने तूफानी बल्लेबाजी करते कोलकाता से वो जीत छीन ली थी। 

Posted By: Sanjay Savern