नई दिल्ली, जेएनएन। आइपीएल 2018 का फाइनल मुकाबला चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच रविवार को खेला जाएगा। इन दोनों ही टीमों में अच्छे खिलाड़ियों की कमी नहीं है बावजूद इसके कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जिन पर क्रिकेट फैंस की नजरें टिकी होंगी साथ ही इन खिलाड़ियों से इनकी टीमों को भी कुछ ज्यादा ही उम्मीदें रहेंगी।  

अंबाती रायडू (चेन्नई सुपर किंग्स)

अंबाती रायडू इस वक्त चेन्नई के एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने अपनी टीम के लिए 500 से ज्यादा रन बनाए हैं। रायडू अपनी टीम के लिए ओपनिंग करते हैं और सीएसके को इनसे अच्छी शुरुआत की अपेक्षा रहती है। रायडू ने फाइनल से पहले कुल 15 मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम पर 586 रन हैं। एक शतक और तीन अर्धशतक के साथ उन्होंने इस आइपीएल में 153.00 की औसत से रन बनाए हैं। 

महेंद्र सिंह धौनी (चेन्नई सुपर किंग्स)

चेन्नई सातवीं बार धौनी की कप्तानी में आइपीएल के फाइनल में पहुंची है। इस सीजन में भी धौनी की कप्तानी लाजबाव रही और उनकी बल्लेबाजी भी अच्छी रही है। धौनी ने भी 15 मैचों में 75.83 की औसत से 455 रन बनाए हैं। अपनी टीम के लिए रन बनाने के मामले में दूसरे स्थान पर मौजूद धौनी की कप्तानी की भी ये परीक्षा होगी कि क्या वो अपनी टीम को तीसरी बार आइपीएल का खिताब दिला पाते हैं या नहीं। 

ड्वेन ब्रावो (चेन्नई सुपर किंग्स)

डवेन ब्रावो की मुंबई इंडियंस के खिलाफ 91 रनों की पारी को कौन भूल सकता है। किस तरह उन्होंने अकेले दम मुंबई से मैच छीन लिया था। ब्रावो ने 15 मैच में 141 रन बनाए हैं और गेंदबाजी में भी 13 विकेट लेकर दम दिखाया है। ब्रावो की डेथ ओवरों में गेंदबाजी चेन्नई के लिए जीत का रास्ता खोलेगी।

लुंगी नगीदी (चेन्नई सुपर किंग्स)

लुंगी नगीदी को इस आइपीएल में छह ही मैच खेलने को मिले हैं, लेकिन उन्होंने 10 विकेट लेकर शानदार गेंदबाजी की है। पंजाब के खिलाफ चार ओवर में 10 रन देकर चार विकेट के प्रदर्शन को भुलाया नहीं जा सकता है।

केन विलियमसन (हैदराबाद)

केन विलियमसन को पहली बार हैदराबाद की कप्तानी सौंपी गई और उन्होंने अपनी टीम को फाइनल में पहुंचा दिया। केन ने ना सिर्फ शानदार कप्तानी की बल्कि वो रन बनाने के मामले में भी सबसे आगे हैं। आइपीएल में फिलहाल केन के नाम पर सबसे ज्यादा रन हैं। उन्होंने अब तक खेले 16 मैचों में 52.92 की औसत से सबसे ज्यादा 688 रन बनाए हैं। इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 8 अर्धशतक लगाने वाले केन दूसरी बार हैदराबाद को खिताब दिला पाते हैं या नहीं ये देखना दिलचस्प होगा। सनराइजर्स हैदराबाद दूसरी बार आइपीएल के फाइनल में पहुंचा है। 

राशिद खान (हैदराबाद)

हैदराबाद ने राशिद खान को अपनी टीम में बनाए रखा और राशिद ने इस सीजन में दिखा दिया कि आखिर क्यों हैदराबाद ने उन पर इतना भरोसा दिखाया। राशिद अपनी टीम के भरोसे पर खरे उतरे और ना सिर्फ पूरे टूर्नामेंट के दौरान घातक गेंदबाजी की बल्कि वक्त पड़ने पर अपने बल्ले का भी जौहर दिखाया। दूसरे क्वालीफायर में राशिद के दम पर ही हैदराबाद की टीम फाइनल में पहुंची। राशिद इस वक्त विकेट लेने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं और उनसे पास मौका है कि वो आइपीएल में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन जाएं। राशिद के नाम पर 16 मैचों में 21 विकेट है और उनसे आगे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज पंजाब के एंड्रयू टे हैं जिन्होंने 14 मैचों में 24 विकेट लिए थे। 

शिखर धवन (हैदराबाद)

शिखर पर अच्छी शुरुआत दिलाने की जिम्मेदारी होती है और कई मैचों में वह इसमें सफल भी रहे हैं। शिखर ने 15 मैचों में 39.25 के औसत से 471 रन बनाए हैं। ऐसे में फाइनल में उनके ऊपर बड़ी जिम्मेदारी रहेगी।

भुवनेश्वर कुमार (हैदराबाद)

भुवनेश्वर कुमार जरूर इस आइपीएल में ज्यादा विकेट नहीं ले पाए हैं, लेकिन उन्होंने अपनी सटीक गेंदबाजी से बल्लेबाजों को बांधकर रखा है। भुवी ने 11 मैचों में नौ विकेट चटकाए हैं। फाइनल में चेन्नई को इस गेंदबाज से बचकर रहना होगा।

आइपीएल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Aus-vs-Ind

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021