नई दिल्ली, जेएनएन। इंग्लैंड की धरती पर भारतीय टीम को अगला टेस्ट मैच लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर खेलना है। 9 अगस्त से शुरू होने वाले इस मुकाबले में भारतीय टीम की नज़र सीरीज़ को 1-1 की बराबरी पर लाने पर होगी। बर्मिंघम में टीम इंडिया को 31 रन से हार का सामना करना पड़ा था और ये भारत की इंग्लैंड में सबसे करीबी हार रही थी, तो ऐसे में भारतीय टीम लॉर्डस में जीत के इराजे से उतरेगी। इस मैदान पर टीम इंडिया का प्रदर्शन शर्मनाक रहा है, लेकिन भारतीय टीम के पिछले दौरे को देखें तो इस बार जीत की उम्मीद जरूर बंध रही है।

लॉर्ड्स में ऐसा रहा है भारत का प्रदर्शन

लॉर्ड्स के मैदान पर भारत का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है। इस मैदान पर भारतीय टीम ने 17 टेस्ट मैच खेले हैं। इन 17 मैचों में से इंग्लैंड की टीम ने 11 मुकाबलों में जीत दर्ज़ की है, तो भारतीय टीम सिर्फ दो बार ही जीत सकी है। वहीं 4 बार टेस्ट मैच ड्रा रहा।

ऐसे जीते दो टेस्ट मैच

भारत ने इस मैदान पर जो दो टेस्ट जीते हैं उनमें पहली जीत 986 के दौरे पर मिली थी जब कपिल देव की अगुआई में मिली थी। इस ऐतिहासिक मैदान पर भारत ने दूसरी टेस्ट जीत पिछले दौरे यानि की 2014 में दर्ज़ की थी। पहली टेस्ट जीत 1986 के दौरे पर मिली थी जब कपिल देव की कप्तानी मेे टीम इंडिया ने डेविड गॉवर की इंग्लिश टीम को 5 विकेट से मात दी थी।‍ उस मैच में दिलीप वेंगसरकर के शतक और कपिल देव तथा चेतन शर्मा की गेंदबाजी ने टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी।

इशांत ने जीत के साथ बनाया था ये रिकॉर्ड

इसके बाद भारत को इस मैदान पर दूसरी जीत 2014 के दौरे में मिली जब महेंद्र सिंह धौनी के धुरंधरों ने एलिस्टेयर कुक की टीम को 95 रनों से शिकस्त दी थी। इस मैच में अजिंक्य रहाणे ने शतकीय पारी खेली जबकि भुवनेश्वर कुमार ने पहली पारी में 6 और इशांत शर्मा ने दूसरी पारी में 7 विकेट झटकते हुए टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई। इस मैच में इशांत शर्मा ने एक रिकॉर्ड भी अपने नाम किया था। इस मैच में इशांत ने 74 रन देकर सात विकेट लिए थे और ये इस ऐतिहासिक मैदान पर किसी भी भारतीय गेंदबाज़ का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। 

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Pradeep Sehgal