शारजाह, प्रेट्र। लगातार दो हार से त्रस्त मौजूदा चैंपियन वेस्टइंडीज और बांग्लादेश टी-20 विश्व कप के सुपर-12 के ग्रुप एक मैच में शुक्रवार को जब आमने-सामने होंगे तो उनके लिए यह मैच करो या मरो जैसा होगा क्योंकि इसमें हारने वाली टीम की सेमीफाइनल में पहुंचने की उम्मीदें लगभग समाप्त हो जाएंगी।

वेस्टइंडीज को जहां इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका से हार का सामना करना पड़ा तो वहीं बांग्लादेश को इंग्लैंड और श्रीलंका ने पराजित किया। ऐसे में सेमीफाइनल में पहुंचने की उम्मीदें जीवंत रखने के लिए इन दोनों टीमों को अब जीत की दरकार है। वेस्टइंडीज को बल्लेबाजी की अपनी कमजोरियों को दूर करने की जरूरत है। इंग्लैंड के खिलाफ उसकी टीम केवल 55 रन पर ढेर हो गई। उसके सभी बल्लेबाजों ने अपने विकेट इनाम में दिए। उन्होंने धीमी पिच पर एक दो रन चुराने के बजाय बड़े शाट खेलने पर ध्यान दिया।

दो बार के चैंपियन ने इसके बाद दूसरे मैच में अपना रवैया थोड़ा बदला और लेंडल सिमंस को पारी संवारने का जिम्मा दिया लेकिन यह सलामी बल्लेबाज बेहद धीमा खेला तथा उन्होंने 35 गेंदों पर 16 रन बनाए जिससे टीम पर दबाव बढ़ा। इस कारण इविन लुइस जैसे अन्य बल्लेबाजों को जोखिम भरे शाट खेलकर अपने विकेट गंवाने पड़े। वेस्टइंडीज ने 11वें से 20वें ओवर के बीच 64 रन के अंदर आठ विकेट गंवाए और बड़ा स्कोर बनाने में नाकाम रहा। अगले मैच में सिमंस की जगह रोस्टन चेज को लिया जा सकता है जिन्होंने अफगानिस्तान के खिलाफ अभ्यास मैच में नाबाद 54 रन बनाए थे। वह उपयोगी गेंदबाज भी हैं और स्पिन विभाग में विकल्प मुहैया करा सकते हैं।

चोटिल तेज गेंदबाज ओबेद मैकाय के स्थान पर आलराउंडर जेसन होल्डर वेस्टइंडीज की टीम में शामिल हुए हैं और उनके आने से टीम को मजबूती मिली है। होल्डर ने आइपीएल में बल्ले और गेंद दोनों से अच्छा प्रदर्शन किया था। यूएई की परिस्थितियां हालांकि वेस्टइंडीज के 'बिग हिटर' के अनुकूल नहीं हैं। उसने यहां जो पिछले सात मैच खेले हैं उनमें उसे जीत नहीं मिली। इनमें टूर्नामेंट से पहले के दोनों अभ्यास मैच भी शामिल हैं।

दूसरी तरह, बांग्लादेश इस तरह के विकेटों पर खेलने का आदी है लेकिन वह इसका फायदा उठाने में नाकाम रहा है। बांग्लादेश की टीम के प्रदर्शन में निरंतरता का अभाव रहा है। अपने पिछले पांच मैचों में से वह केवल दो में जीत दर्ज कर पाया। मुहम्मद नईम, लिटन दास, शाकिब अल हसन, महमुदुल्लाह और मुशफिकुर रहीम के रूप में बांग्लादेश के पास प्रतिभाशाली बल्लेबाज हैं लेकिन वे सामूहिक योगदान देने में असफल रहे हैं। उसकी गेंदबाजी में अनुशासन की कमी दिखी और उन्हें बेहतर प्रदर्शन करने की जरूरत है। वेस्टइंडीज के खिलाफ उसके स्पिनरों की भूमिका अहम होगी।

Edited By: Sanjay Savern