कोलंबो, प्रेट्र। श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे ने आरोप लगाए थे कि 2011 वनडे वर्ल्ड कप फाइनल मैच फिक्स था। इसके बाद श्रीलंका के मौजूदा खेल मंत्री ने इसकी जांच शुरू करवा दी थी, लेकिन अब श्रीलंकाई पुलिस ने साफ कर दिया है कि वर्ल्ड कप फाइनल मैच की फिक्सिंग को लेकर जांच आगे नहीं बढ़ाई जाएगी। पुलिस का कहना है कि सबूतों की कमी की वजह से इस जांच को बंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई सबूत उन्हें नहीं मिला जिसके आधार पर ये कहा जा सके या फिर जो ये साबित करता हो कि श्रीलंका के खिलाड़ियों ने भारत को जीत दिलाने में मदद की थी। 

आपको बता दें कि इस मामले की जांच को लेकर श्रीलंका के कई पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों से पूछताछ की गई थी जिसमें टीम के पूर्व कप्तान अरविंद डी सिल्वा, उपुल थरंगा और 2011 वर्ल्ड कप में टीम की कप्तानी करने वाले कुमार संगकारा शामिल थे। इन खिलाड़ियों से पुलिस ने कई-कई घंटों तक पूछताछ की और इसके आधार पर ही पुलिस ने अपना ये बयान जारी किया। 

इससे पहले श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री ने आरोप लगाए थे कि 2 अप्रैल 2011 को भारत व श्रीलंका के बीच खेला गया फाइनल मैच फिक्स था। हालांकि इसे लेकर उन्होंने कोई ठोस सबूत नहीं दिए थे। पूर्व खेल मंत्री की तरफ से लगाए गए इस आरोप के बाद ही विशेष जांच समिति ने पूर्व कप्तान अरविंद डिसिल्वा व उस मैच में पारी की शुरुआत करने वाले पूर्व ओपनर बल्लेबाज उपुल थरंगा के बयान भी पुलिस ने लिए थे। अरविंद उस वक्त टीम के चयन समिति के अध्यक्ष थे। 

विशेष जांच समिति ने इसके पूर्व अलुथगामगे का बयान भी दर्ज किया था और उन्होंने इससे संबंधित रिपोर्ट भी जांच समिति को सौंपी थी। पूर्व खेल मंत्री चाहते थे कि इसकी विस्तार में जांच हो। इस जांच के मद्देनजर टीम के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा से पुलिस ने गुरुवार को 10 घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की थी। आपको बता दें कि भारत ने इस वर्ल्ड कप के फाइनल में श्रीलंका को हराकर एम एस धौनी की कप्तानी में 28 साल के बाद दूसरी बार वनडे विश्व कप का खिताब जीता था। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस