नेगोंबो, एएफपी। श्रीलंका में रविवार को हुए आठ सिलसिलेवार बम धमाकों ने पूरे देश व दुनिया को हिलाकर रख दिया था। श्रीलंका के होटलों और गिरजाघरों को निशाना बनाकर किए गए सिलसिलेवार धमाकों में करीब 300 लोगों की मौत हो गई और तकरीबन 500 लोग घायल हैं। इन्हीं धमाकों में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के ऑलराउंडर दासुन शनाका का परिवार भी प्रभावित हुआ है। दासुन शनाका ने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी।

दासुन शनाका ने अपना दर्द बयां किया और प्रशंसकों को जानकारी दी कि उनका परिवार भी इस हमले में बाल-बाल बचा। उनकी मां और दादी ईस्टर के मौके पर चर्च गए हुए थे। अपने चर्च में ऐसा हमला देखकर हैरान हूं। मेरी मां ठीक हैं और दादी को सर्जरी से गुजरना पड़ा है। अपनी प्रार्थनाओं में हमें याद रखें।

इससे पहले दासुन शनाका ने क्रिकइंफो से बातचीत करते हुए भयानक मंजर को बयां किया। उन्होंने बताया कि आमतौर पर ईस्टर के मौके पर वह भी चर्च जाते हैं लेकिन रविवार को वह कहीं और गए थे इसलिए थकान के कारण चर्च नहीं जा सके। मेरी मां और दादी वहां गई थीं। बम धमाके की गूंज ने सबको हिला दिया था और फिर हम भी वहां तुरंत पहुंचे और नजारा देखकर दंग रह गए।

शनाका ने बताया कि पूरा चर्च ध्वस्त हो चुका था और लोग घसीटकर लाशें बाहर निकाल रहे थे। पहले उनकी मां मिलीं तो वह उनको अस्पताल ले गए, उसके बाद दादी को ढूंढ़ना शुरू किया क्योंकि वह धमाके के समय अंदर ही थीं और चर्च का हाल देखकर उन्हें ज्यादा उम्मीदें नहीं थीं। हालांकि बाद में मैंने देखा कि उनकी दादी बच गईं। उनके आसपास सब जान गंवा चुके थे लेकिन ये करिश्मा ही था कि दादी के सिर्फ सिर पर चोट आई।

वास और हेराथ ने की लोगों से एकजुट होने की अपील

श्रीलंका में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोट पर शोक और निराशा जताते हुए देश के पूर्व क्रिकेटर चमिंडा वास और रंगना हेराथ ने मंगलवार को कहा कि इस समय मजबूत और एकजुट रहने की जरूरत है। वास ने कहा कि देखकर दुख हुआ। हमने कभी सोचा भी नहीं था कि श्रीलंका में ऐसा होगा। यह काफी खूबसूरत और मेहमानवाजी वाला देश है। लोग काफी दोस्ताना रवैये वाले हैं। ऐसी घटना देखकर हम स्तब्ध हैं।

उन्होंने कहा कि हमें नए सिरे से उठना होगा। हम गिरिजाघर और होटल तो फिर बना लेंगे लेकिन जिंदगियां वापस नहीं मिलेंगी। उम्मीद है कि श्रीलंका सरकार और लोग एकजुट होकर खड़े रहेंगे। वास ने कहा कि हमले दुनिया में कहीं भी हो सकते हैं। न्यूजीलैंड में हाल ही में हुआ। मुझे उम्मीद है कि श्रीलंका में हालात जल्दी सामान्य होंगे। वहीं हेराथ ने कहा कि हमारी संवेदनाएं सबके साथ है। हम एकजुट हैं। संकट की घड़ी है लेकिन हमें यकीन है कि हम मजबूती से इससे निकलेंगे।

Posted By: Vikash Gaur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप