नई दिल्ली, जेएनएन। दुनिया में तमाम अविष्कार हो रहे हैं। वैज्ञानिक हर एक चीज में गहनता से शोध कर नई-नई योजनाओं पर काम कर रहे हैं। इसी तरह कुछ वैज्ञानिकों ने सस्ता, टिकाऊ और दमदार क्रिकेट बैट बनाया है। वैज्ञानिकों ने ये बैट कंप्यूटर मॉडल और अनुकूल एल्गोरिदम के साथ तैयार किया है, जो आजकल के महंगे बल्लों की तरह काफी सस्ता होगा। 

एल्गोबैट से तमाम बच्चों के क्रिकेट खेलने का सपना साकार होगा जो अपना भविष्य इसमें देखते हैं। ये हाई परफॉर्मिंग एल्गोबैट बाजार में मामूली कीमत में मिलेगा। कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया के वैज्ञानिकों ने नोवल एल्गोरिदम के अनुसार बनाया है जिससे हार्ड बॉल भी अच्छे से खेली जा सकती है। इस तरह ये बल्लेबाजों की बल्ले-बल्ले कर सकता है।

दुनिया में कम से कम एक मिलियन लोग क्रिकेट खेलते हैं, जबकि 2.5 बिलियन लोग क्रिकेट को देखते है। इसी वजह से क्रिकेट फुटबॉल के बाद दूसरा सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला खेल है। इसी बात को लेकर यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया के प्रोफेसर और इस प्रोजेक्ट के हेड फिल एवंस कहते हैं, "जब छोटे बच्चे क्रिकेट की शुरुआत करते हैं तो उनके लिए हाई क्वालिटी बैट खरीदना मुमकिन नहीं है।" " 

युवा बच्चे जो आने वाले समय में स्टीव स्मिथ, विराट कोहली और इयोन मोर्गन बनने का सपना देखते हैं उनके लिए ये बैट बहुत उपयोगी होगा और उनको सपनों को पंख देने के लिए बेहतर होगा। प्रोफेसर एवंस और उनके सहयोगी सदेग मजलूमी ने मशीन और एल्गोरिदम के साथ कंप्यूटर टेक्निक का उपयोग करते हुए इसे तैयार किया और इसका नाम एल्गोबैट(AlgoBat) रखा है। 

पीएचडी रिसर्चर सदेग मजलूमी ने लिखा इस एग्लगोरिदम को लिखा है। इसके लिए उन्होंने बैट की ज्यामिति को ध्यान में रखा है। बैट का पिछला हिस्सा वाइब्रेशन पैदा करेगा जो बॉल को उड़ाने के लिए काफी होगा। इसमें भी लकड़ी का प्रयोग होगा जो कश्मीरी विलो और इंग्लिश विलो बैट में होता है। इसकी कीमत 30-40 यूएस डॉलर होगी।  

Posted By: Vikash Gaur