कराची। पिछले दिनों भारत दौरे पर आए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के वरिष्ठ अधिकारी नजम सेठी ने शनिवार को कहा कि क्रिकेट को लेकर बीसीसीआइ सकारात्मक सोच रखता है और वह भी चाहता है कि दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज हो। सेठी का कहना है कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में दिसंबर में भारत के साथ द्विपक्षीय सीरीज की उम्मीद अभी खत्म नहीं हुई है।

पीसीबी की कार्यकारी समिति के प्रमुख सेठी ने इन खबरों को भी अधिक तवज्जो नहीं दी कि बीसीसीआइ ने मुंबई में पाकिस्तान क्रिकेट प्रतिनिधिमंडल को आमंत्रित किए जाने के बावजूद उनकी मेहमाननवाजी ठीक ढंग से नहीं की। सेठी ने एक समाचार चैनल से कहा, 'मुझे लगता है कि भारतीय बोर्ड भी चाहता है कि सीरीज हो। अगर वे नहीं चाहते तो हमें मुंबई में बातचीत के लिए आमंत्रित ही नहीं करते। यह माना जा सकता है कि बीसीसीआइ उस वक्त दबाव में आ गई हो जब शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने बोर्ड के दफ्तर में घुसकर द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज का विरोध प्रदर्शन किया था। बीसीसीआइ अधिकारियों ने सोचा होगा कि यह बेहतर है कि इस समय पीसीबी प्रतिनिधिमंडल से बातचीत नहीं की जाए।

सेठी हालांकि इस बात से सहमत दिखे कि भारतीय बोर्ड और सरकार को शिवसेना के विरोध और भारत में पाकिस्तानी नागरिकों को खतरे पर गंभीरता से गौर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि अगर यह छवि बनती है कि बीसीसीआइ और सरकार अतिवादियों के एक समूह के खिलाफ मजबूर है तो समस्या होगी क्योंकि भारत को अगले साल विश्व टी-20 की मेजबानी करनी है।


क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें


खेल की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: sanjay savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस