जागरण ब्यूरो, कोलकाता। एन श्रीनिवासन का फिर से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) के अध्यक्ष का पदभार संभालना तय लग रहा है। क्योंकि दो सदस्यीय जांच समिति को भारतीय क्रिकेट को हिलाकर रख देने वाले आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी मामले में श्रीनि की टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के खिलाफ गड़बड़ी का कोई सुबूत नहीं मिला है। साथ ही, जांच समिति की रिपोर्ट में श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन और राजस्थान रॉयल्स के मालिकों में से एक राज कुंद्रा को भी स्पॉट फिंिक्संग में क्लीन चिट दे दी गई है।

श्रीनिवासन की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पूर्व न्यायाधीश टी जयराम चौटा और आर बालासुब्रह्मण्यम की दो सदस्यीय समिति ने रविवार को यहां हुई बीसीसीआइ की वर्किंग कमेटी की बैठक में अपनी रिपोर्ट सौंप दी। इससे श्रीनिवासन का बीसीसीआइ में वापसी का रास्ता साफ हो गया है। इस समिति का गठन श्रीनिवासन के दामाद और चेन्नई टीम के प्रिंसिपल गुरुनाथ मयप्पन, राजस्थान रॉयल्स और उसके सह मालिक राज कुंद्रा की भूमिका की जांच के लिए किया गया था।

बीसीसीआइ के उपाध्यक्ष निरंजन शाह ने कहा कि जांच समिति को राज कुंद्रा, इंडिया सीमेंट और राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ किसी तरह की गड़बड़ी का कोई सुबूत नहीं मिला है। जब बीसीसीआइ के अंतरिम अध्यक्ष जगमोहन डालमिया से पूछा गया कि क्या रिपोर्ट में इंडिया सीमेंट को क्लीन चिट दी गई है तो उन्होंने कहा, 'इस पर उचित मंच पर चर्चा की जाएगी, जो आइपीएल गवर्निंग काउंसिल है। गवर्निंग काउंसिल रिपोर्ट का आकलन करेगी और उस हिसाब से फैसला लेगी। रिपोर्ट की प्रति उसके बाद सार्वजनिक की जाएगी।'

बीसीसीआइ जांच समिति का आदेश मानने के लिए बाध्य है, इसलिए यह साफ है कि श्रीनिवासन बोर्ड अध्यक्ष पद पर वापसी करेंगे। दो अगस्त को बीसीसीआइ की कार्यकारिणी की बैठक भी होगी। श्रीनिवासन उसी दिन अध्यक्ष पद का कामकाज संभाल सकते हैं।

सूत्रों के अनुसार जांच रिपोर्ट में मयप्पन को स्पॉट फिक्सिंग में पाक साफ करार दिया गया है, लेकिन वह सट्टेबाजी में लिप्त हो सकते हैं। हालांकि इसका कोई स्पष्ट सुबूत नहीं है। शाह से जब पूछा गया कि क्या मयप्पन को दोनों मामलों में क्लीन चिट दे दी गई है तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

राजीव शुक्ला ने आइपीएल गवर्निंग काउंसिल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है और ऐसे में बैठक की अध्यक्षता कौन करेगा, इस सवाल पर डालमिया ने कहा, 'मैंने उनसे पद पर बने रहने का आग्रह किया है। मैंने शुक्ला का इस्तीफा मंजूर नहीं किया है।'

धौनी मामले में कुछ नहीं छुपाया जाएगा : डालमिया

जागरण ब्यूरो, कोलकाता : भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अंतरिम अध्यक्ष जगमोहन डालमिया ने रविवार को वादा किया कि महेंद्र सिंह धौनी के खेल प्रबंधन कंपनी में हिस्सेदारी के मामले में कथित तौर पर हितों में टकराव की जांच के मामले में ढुलमुल रवैया नहीं अपनाया जाएगा। यह खेल प्रबंधन कंपनी धौनी सहित कई अन्य भारतीय क्रिकेटरों का प्रबंधन करती है। धौनी उस समय विवादों में घिर गए थे जब यह खबर सामने आई थी कि उनकी रिती स्पो‌र्ट्स में 15 प्रतिशत हिस्सेदारी है जो उनके अलावा सुरेश रैना, रवींद्र जडेजा और प्रज्ञान ओझा का भी प्रबंधन करती है।

'बोर्ड के नियमों के अनुसार जांच रिपोर्ट आइपीएल संचालन परिषद के पास भेजी जाएगी। संचालन परिषद की इस मसले पर फैसला करने के लिए दो अगस्त को नई दिल्ली में बैठक होगी।'

- जगमोहन डालमिया (बीसीसीआइ के अंतरिम अध्यक्ष)

'भगवान मौजूद है। सभी को प्यार। सच की जीत हुई। ट्विटर पर समर्थन, प्यार जताने वालों और प्रार्थना करने वालों को धन्यवाद।'

- शिल्पा शेट्टी (राज कुंद्रा की पत्नी और राजस्थान रॉयल्स की सहमालिक)

'बीसीसीआइ के फैसले देखने के बाद मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि मैं खुश हूं कि अब मैं इस बिल्कुल बेशर्म संगठन का हिस्सा नहीं हूं।'

-ललित मोदी (आइपीएल के बर्खास्त आयुक्त)

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस