कराची। पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर जावेद मियांदाद ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) द्वारा चुने गए विदेशी कोचों को राष्ट्रीय टीम की मौजूदा खराब हालत का जिम्मेदार ठहराया है। इसके अलावा उन्होंने पीसीबी की उस घोषणा को भी आड़े हाथों लिया जिसमें बोर्ड ने मार्च में पूर्व कप्तानों के साथ दो दिवसीय बैठक करके पाकिस्तान क्रिकेट की समस्याओं पर चर्चा करने का एलान किया है।

जावेद मियांदाद ने आज कहा, 'अब तक किसी ने भी मुझसे इस कॉन्फ्रेंस को लेकर संपर्क नहीं किया है। मैंने अखबारों में इसके बारे में पढ़ा जिसमें मेरा नाम भी उन कप्तानों में था जिनको इस बैठक के लिए न्योता मिला है, लेकिन स्थानीय खिलाड़ियों के साथ ऐसी बैठक करने का कोई मतलब नहीं बनता जब बोर्ड भारी वेतन पर विदेशी कोचों को चुन रहा है।'

क्रिकेट की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

मियांदाद ने पीसीबी और विदेशी कोचों को आड़े हाथों लेते हुए आगे कहा, 'ये विदेशी कोच और सपोर्ट स्टाफ ही हैं जिन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट को नुकसान पहुंचाया है और आज इसे इतनी बुरी हालत में ले आए हैं। ऐसे में अब स्थानीय खिलाड़ियों से बात करके क्या फायदा।' गौरतलब है कि मियांदाद तीन बार (1999, 2000 और 2003/04) में पाकिस्तानी टीम के कोच रह चुके हैं। उन्हें 124 टेस्ट मैचों और 233 वनडे मैचों का शानदार अनुभव भी रहा है। मियांदाद का कहना है कि पीसीबी ने ये बैठक सिर्फ फैंस और आलोचकों को बेवकूफ बनाने के लिए बुलाई है।

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Shivam

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप