नई दिल्ली, जेएनएन। Lasith Malinga retirement लसिथ मलिंगा, क्रिकेट की दुनिया का वो नाम जो किसी परिचय के मोहताज नहीं है। मलिंगा दुनिया के महान तेज गेंदबाजों में से एक हैं और अपनी सटीक यॉर्कर और अनोखे गेंदबाजी एक्शन के लिए जाने जाते हैं। मलिंगा बांग्लादेश के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर का आखिरी मैच अपने ही देश में खेलेंगे और फिर हमेशा के लिए क्रिकेट को अलविदा कह देंगे। इसके बाद क्रिकेट फैंस को मलिंगा का बेजोड़ अंदाज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में फिर से देखने को नहीं मिलेगा। 

श्रीलंका के लिए 30 टेस्ट, 225 वनडे और 73 टी 20 मैच खेल चुके लसिथ मलिंगा का क्रिकेट करियर काफी शानदार रहा है। हालांकि वो अपने देश के लिए ज्यादा टेस्ट मैच नहीं खेल पाए, लेकिन सिमित ओवर के क्रिकेट में उन्होंने अपना जलवा जमकर दिखाया। वनडे और टी 20 में देश हो या विदेश हर जगह उन्होंने कमाल की सफलता हासिल की और उन्हें दुनिया के खतरनाक गेंदबाजों में से एक गिना जाता है। कोलंबो में ही मलिंगा अपना आखिरी वनडे खेलेंगे और फिर अपनी याद क्रिकेट फैंस की जहन में छोड़कर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे। 

मलिंगा ने 15 वर्षों तक श्रीलंका के लिए क्रिकटे खेला और अपनी गेंदबाजी से दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों के लिए खौफ बने रहे। उन्होंने 30 टेस्ट मैचों में 101 विकेट लिए। टेस्ट में उनका बेस्ट प्रदर्शन एक पारी में 50 रन देकर 5 विकेट रहा जबकि एक टेस्ट मैच में उनका बेस्ट प्रदर्शन 210 रन देकर 9 विकेट रहा। वनडे की बात करें तो यहां पर उन्होंने 225 मैचों में कुल 335 विकेट झटके। 38 रन देकर 6 विकेट उनका वनडे में बेस्ट प्रदर्शन रहा। मलिंगा ने 73 अंतरराष्ट्रीय टी 20 मुकाबले भी खेले जिसमें उन्होंने कुल 97 विकेट झटके। क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में 31 रन देकर पांच विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा।  मलिंगा ने श्रीलंका के लिए वनडे व टेस्ट करियर की शुरूआत वर्ष 2004 में की थी जबकि 2006 में उन्होंने अंतरराष्ट्रीय टी 20 क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था। 

मलिंगा ने अपनी कप्तानी में श्रीलंका को टी 20 विश्व चैंपियन भी बना चुके हैं। वर्ष 2014 में खेले गए आईसीसी टी 20 वर्ल्ड कप में अपनी टीम की अगुआई की थी और टीम को खिताब भी दिलाया। वो श्रीलंका के पहले ऐसे कप्तान बने थे जिन्होंने अपनी कप्तानी में टीम को क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में विश्व विजेता बनाया था। श्रीलंका की तरफ से टी 20 क्रिकेट में वो सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज भी हैं। इंजरी की वजह से उन्होंने वर्ष 2015 में टीम की कप्तानी छोड़ने का फैसला किया। वर्ष 2016 में उन्हें भारत के खिलाफ एक बार फिर से श्रीलंका का कप्तान बनाया गया था। वर्ष 2018 में न्यूजीलैंड दौरे के लिए एक बार फिर से उन्हें सिमित ओवर के क्रिकेट के लिए टीम का कप्तान बनाया गया था। 

लसिथ मलिंगा ने अपने क्रिकेट करियर में एक से बढ़कर एक रिकॉर्ड अपने नाम किए जो उन्हें महान गेंदबाजों की श्रेणी में खड़ी करता है। क्रिकेट इतिहास में वो अब तक के एकमात्र ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में चार गेंदों पर चार विकेट लिए। वर्ष 2007 में साउथ  अफ्रीका के खिलाफ उन्होंने ये कमाल किया था। वनडे क्रिकेट के इतिहास में तीन बार हैट्रिक विकेट लेने वाले वो दुनिया के एकमात्र गेंदबाज हैं। वनडे विश्व कप में दो बार हैट्रिक विकेट लेने वाले वो दुनिया के एकमात्र गेंदबाज हैं। विश्व कप में उन्होंने पहला हैट्रिक 2007 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लिया था और दूसरी बार उन्होंने ये कमाल 2011 वर्ल्ड कप में केन्या के खिलाफ किया था।वनडे विश्व कप में मलिंगा सबसे तेज 50 विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। उन्होंने 26 मैचों में ये कमाल किया था। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस