नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। जम्मू और कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन घाटी में खेल को बढ़ावा देने के लिए COVID-19 के बाद स्पेशल ट्रायल्स का आयोजन कर रही है। ये ट्रायल्स सभी के लिए उपलब्ध है जिसमें सीनियर भी शामिल हो सकते हैं। खिलाड़ियों मे इस ट्रायल्स को लेकर गजब का उत्साह देखा गया। कोविड-19 में अपने घरों में कैद इन खिलाड़ियों ने बढ़-चढ़ कर इस आयोजन में हिस्सा लिया। यह ट्रायल्स उस समय हो रहा है जब जम्मू कश्मीर के दो खिलाड़ी इंडियन प्रीमियर लीग जैसे बड़े टूर्नामेंट खेल रहे हैं। उमरान तो अपनी रफ्तार और गेंदबाजी के दम पर पूर्व कोच से लेकर कई वरिष्ठ क्रिकेटरों को भी प्रभावित कर चुके हैं।

इस ट्रायल्स का उद्देश्य है कि ज्यादा ये ज्यादा युवा खिलाड़ियों को आइपीएल जैसे बड़ी लीग में खेलने का मौका मिले और वो अपनी प्रतिभा का राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर दिखा सके। इस ट्रायल्स का आयोजन शेर-ए-कश्मीर स्टेडियम में पेशेवर प्रशिक्षकों और चयनकर्ताओं की देखरेख में हुआ जिसमें दूर-दराज के खिलाडियों ने जमकर हिस्सा लिया।

ट्रायल में आए समीर अहमद नाम के खिलाड़ी ने कहा कि "ट्रायल पिछले साल भी हुआ था। कश्मीर में कई प्रतिभाशाली क्रिकेटर हैं। कई ऐसे खिलाड़ी है जिन्हें मौका नहीं मिलता था लेकिन अब मिलता है। जब खिलाड़ियों को मौके मिलते हैं, तभी हम पता लगा सकते हैं कि वे कितने अच्छे हैं। बहुत सारे खिलाड़ी अवसरों की कमी के कारण आगे नहीं बढ़ पाते हैं।

"शेख उसाद नाम के एक अन्य खिलाड़ी ने कहा, "यह एक शानदार पहल है। आइपीएल की वजह से क्रिकेट को लेकर काफी क्रेज है। माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे खेलें, यह स्थानीय प्रतिभाओं को उजागर करेगा, जिसे तैयार किया जाएगा। अन्य जिलों में भी ट्रायल चल रहे हैं। पहले सीनियर ट्रायल होंगे, फिर खिलाड़ियों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा"

कश्मीर क्रिकेट के प्रशासनिक प्रमुख शेख माजिद ने कहा, "क्रिकेट और आईपीएल का व्यवसायीकरण हो गया है। इसीलिए, कई लोग इसे अब एक पेशे के रूप में चाहते हैं। हमने महिलाओं और पुरुषों के अंडर-19 और फिर अंडर-23 कैटेगरी से इसकी शुरुआत की थी और अब हम सीनियर्स ट्रायल कर रहे हैं। घाटी से 90 लड़कों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा।

Edited By: Sameer Thakur