नई दिल्ली, जेएनएन। भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज का तीसरा मैच, इस मैच में भारत के कपिल देव कहे जाने वाले हार्दिक पांड्या ने आश्चर्य रूप से 5 विकेट लेकर टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान दिया। बल्लेबाजी में भी उन्होंने अर्धशतक लगाया। अब टीम इंडिया ने टेस्ट जीत कर वापसी भी कर ली।

जीत के बाद पत्रकारों ने उनकी तुलना कपिल देव वाले बयान से की तो हार्दिक ने कहा कि मुझे कपिल देव नहीं बनना, मैं हार्दिक पांड्या बन कर ही खुश हूं। अपने पांड्या बन कर 40 से ज्यादा वनडे और 10 टेस्ट मैच खेल चुका हूं। लेकिन ये भी सच है कि जिस तरह कपिल देव के प्रदर्शन में निरंतरता देखी जाती थी, वह इस ऑलराउंडर में नहीं है। एक मैच को छोड़ दिया जाए तो बाकी सीरीज में उन्होंने अपने फैंस को निराश किया है। इससे पहले साउथ अफ्रीका में जब हार्दिक गलत शॉट खेलकर आउट हुए थे तो कपिल देव ने भी कहा था कि अगर हार्दिक ऐसा ही खेलते रहे तो उनकी तुलना मुझसे मत करो।

टेस्ट सीरीज के चौथे मैच में ना केवल उन्होंने बल्ले निराश किया बल्कि गेंदबाजी से भी उन्होंने भारत को टेस्ट मैच हरवाने में अहम भूमिका निभाई। सिर्फ टेस्ट मैच ही क्यों, पूरी सीरीज का चिट्ठा खोल के देख लीजिए, इस जनाब ने क्या किया है। टीम इंडिया में ऑलराउंडर की हैसियत से खेल रहे पांड्या ने बल्ले से सभी को निराश किया। पांड्या ने 4 टेस्ट की 8 पारियों में केवल 164 रन बनाए हैं, इस दौरान उन्होंने एक अर्धशतक लगया। अब गेंदबाजी की भी बात कर लेते हैं। हार्दिक ने 4 टेस्ट में केवल 4 टेस्ट में केवल 7 विकेट लिए है, इसमें से 5 विकेट तो एक ही पारी में थे, जिसके दम पर वह इतना इतरा रहे थे।

अब आप ही सोचिए, क्या हार्दिक सच में ऑलराउंडर है। इंग्लैंड की तरफ से स्टोक्स, वोक्स, कुर्रन इन तीनों ने ना केवल रन बनाए बल्कि विकेट भी लिए। इनमें वोक्स और कुर्रन को अब तक सक्षम ऑलराउंडर भी नहीं माना जाता फिर भी वह प्रदर्शन के मामले में पांड्या से कोसो आगे हैं। हार्दिक ने इस सीरीज में हर एक फैन को निराश किया जो उनसे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद करता है। फैंस ने उन्हें इसलिए सिर आंखों में चढ़ाया ताकि वह टीम इंडिया को जीत दिलाए ना कि सोशल मीडिया पर स्टाइलिश फोटो डाल फैंस के जले पर नमक छिड़के सके।

कई पूर्व दिग्गजों ने भी कहा कि हार्दिक से ऑलराउंडर का ठप्पा छिन लेना चाहिए और बहुत हद कर वह सही भी कह रहे हैं। आप खुद बता दीजिए क्या आपको उनसे एक भी मैच में ऐसा प्रदर्शन दिखा जिसमें उन्होंने दिखाया हो कि वह एक अच्छे ऑलराउंडर बनने की काबिलियत हो। अब तो सवाल यहां तक उठ रहे है कि क्या वह टेस्ट फॉर्मेट के लायक है भी कि नहीं।

टेस्ट सीरीज में विराट ने जिद रखी कि वह हार्दिक को हर मैच में खिलाएंगे और उन्होंने ऐसा किया भी, अब नतीजा सब के सामने है। इसी जगह अगर रवींद्र जडेजा खेलते तो शायद उनसे ज्यादा रन और ज्यादा विकेट ले लेते लेकिन विराट को हार्दिक के रूप में एक बेस्ट ऑलराउंडर मिला हुआ है। लेकिन हार्दिक का प्रदर्शन ऐसा कि ना वह बल्लेबाज की भूमिका निभा रहे हैं और रना ही गेंदबाजी की। हां वह एक सोशल मीडिया पर स्टाइलिश फोटो डालने वाले पक्क क्रिकेटर जरूर बन गए हैं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Lakshya Sharma