बेंगलुरु, प्रेट्र। पिछले साल घर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच वनडे की सीरीज 2-3 से हारने वाली भारतीय टीम जब वर्तमान सीरीज का पहला मुकाबला पुणे में 10 विकेट से हारी तो लगा कि इस बार भी रिजल्ट कुछ वैसा ही होने वाला है लेकिन राजकोट में हुए दूसरे वनडे में ओपनर रोहित शर्मा (42) और शिखर धवन (96) ने पहले विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी कर टीम इंडिया के मजबूत स्कोर की नींव रखी। भारत ने मेहमानों को 341 रनों का लक्ष्य दिया और 34 रनों से जीत हासिल की लेकिन इस जीत से पहले ही भारत के दोनों ओपनर चोटिल हो गए।

शिखर की पसलियों में बल्लेबाजी के समय ही पैट कमिंस की गेंद लगी थी जबकि रोहित क्षेत्ररक्षण करते समय अपना बाजू चोटिल कर बैठे थे। इस सीरीज का तीसरा और आखिरी मुकाबला रविवार को बेंगलुरु में है और भारत को इस 1-1 पर चल रही सीरीज को जीतने के लिए यह मैच जीतना होगा। इस मैच को जीतने के लिए भारत के दोनों ओपनरों का टीम में रहना जरूरी है लेकिन इनके खेलने पर अंतिम फैसला मुकाबले से ठीक पहले लिया जाएगा।

राहुल पर बढ़ा भार : भारत दूसरे वनडे में अपने बल्लेबाजी संयोजन को ढर्रे पर ले आया तथा केएल राहुल ने भी पांचवें नंबर पर मिले मौके का पूरा फायदा उठाया। रोहित शर्मा और शिखर धवन ने पारी का आगाज किया जबकि कप्तान विराट कोहली अपने पसंदीदा तीसरे नंबर पर उतरे और श्रेयस अय्यर चौथे नंबर पर आए। अगर शिखर और रोहित फिट हो जाते हैं तो रविवार को भी यही बल्लेबाजी क्रम बरकरार रहने की संभावना है। दोनों के स्वास्थ्य पर कड़ी निगाह रखी जा रही है। अगर ये दोनों नहीं खेलते हैं या इनमें से कोई एक नहीं खेलता है तो कप्तान विराट कोहली की मुश्किल बढ़ना लाजमी है।

मनीष पांडे पर दबाव : चोटिल रिषभ पंत की जगह मनीष पांडे को दूसरे वनडे में खेलने का मौका मिला लेकिन वह सफल नहीं हो सके। उनके लिए बेंगलुरु में एक और मौका होगा। राजकोट में भारत के लिए सबसे महत्वपूर्ण पंत की जगह विकेटकीपर करने वाले राहुल की पारी रही जो उन्होंने नंबर पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए खेली। इससे नई संभावनाएं पैदा हो गई जिससे टीम संतुलन को सुधारने में मदद मिल सकती है। विशेषज्ञ सलामी बल्लेबाज राहुल ने 150 से अधिक स्ट्राइक रेट से रन बनाए। वह पहले मैच में नंबर तीन पर खेले थे। कोहली ने इसे राहुल की सर्वश्रेष्ठ पारी तक करार दे दिया। पंत की अनुपस्थिति में उन्होंने विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी भी संभाली और आरोन फिंच को बड़ी चपलता से स्टंप आउट करने के अलावा दो कैच भी लिए।

गेंदबाजी में बदलाव की उम्मीद नहीं : गेंदबाजी में किसी तरह के बदलाव की संभावना नहीं है और टीम तीन तेज गेंदबाजों और दो स्पिनरों के साथ ही उतर सकती है। कुलदीप यादव पिछले साल अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाए थे लेकिन पिछले मैच में उन्होंने एक ओवर में एलेक्स कैरी और स्टीव स्मिथ के विकेट लेकर मैच का पासा पलटा और खुद को उपयोगी साबित किया। कलाई के दूसरे स्पिनर युजवेंद्रा सिंह चहल को कुलदीप के साथ खेलने का मौका मिल सकता है क्योंकि चिन्नास्वामी आइपीएल में उनका घरेलू मैदान है।

फिट बुमराह भारत के लिए फायदा : चोट से उबरकर वापसी करने वाले जसप्रीत बुमराह की कसी हुई गेंदबाजी भारत के लिए एक और सकारात्मक पहलू रहा। उन्होंने एक छोर से दबाव बनाया और दूसरे छोर से विकेट मिलते रहे। मुहम्मद शमी और नवदीप सैनी ने भी अंतिम ओवरों में अच्छी गेंदबाजी की। ऑस्ट्रेलिया भी हार के बाद बहुत ज्यादा बदलाव करेगा ऐसी संभावना नहीं है। कुलदीप के ओवर में दो विकेट गंवाने से पहले वह लक्ष्य हासिल करने की स्थिति में बना हुआ था।

लाबुशाने ने दिखाई फॉर्म : बेहतरीन फॉर्म में चल रहे मार्नस लाबुशाने ने अपनी पहली वनडे पारी में प्रभाव छोड़ा। यही नहीं स्टीव स्मिथ ने एक समय मैच ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में मैच मोड़ ही दिया था लेकिन कुलदीप ने उन्हें शतक और जीत से महरूम कर दिया। मिशेल स्टार्क ने पिछले मैच में 10 ओवर में 78 रन लुटाए लेकिन वह वापसी के लिए प्रतिबद्ध होंगे। उनके साथ नई गेंद संभालने वाले पैट कमिंस की गेंदों पर रन बनाना फिर से आसान नहीं होगा जबकि एडम जांपा फिर से कोहली को आउट करने का प्रयास करेंगे। वह सीमित ओवरों के क्रिकेट में अब तक सात बाी कोहली को आउट कर चुके हैं। बायें हाथ के स्पिनर एश्टन एगर हालांकि प्रभाव नहीं छोड़ पाए। उन्हें निर्णायक मैच में बेहतर खेल दिखाना होगा।

भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, के एल राहुल, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, केदार जाधव, शिवम दुबे, रवींद्र जडेजा, युजवेंद्रा सिंह चहल, कुलदीप यादव, नवदीप सैनी, जसप्रीत बुमराह, शार्दुल ठाकुर और मुहम्मद शमी।

ऑस्ट्रेलिया : आरोन फिंच (कप्तान), एलेक्स कैरी, पैट कमिंस, एश्टन एगर, पीटर हैंड्सकोंब, जोश हेजलवुड, मार्नस लाबुशाने, केन रिचर्डसन, डी आर्ची शॉर्ट, स्टीव स्मिथ, मिशेल स्टार्क, एश्टन टर्नर, डेविड वार्नर, एडम जांपा।

नंबर गेम :

-2 पिछले वनडे जो बेंगलुरु में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए, उनमें कुल मिलाकर 709 और 647 रन बने थे।

- 3 पिछली वनडे पारियों में रोहित शर्मा ने बेंगलुरु में 318 रन बनाए थे, जिसमें एक दोहरा शतक भी शामिल है। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 122 का रहा। इस मैदान पर उनसे ज्यादा रन सिर्फ वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर ने ही बनाए हैं।

-100 वनडे विकेट पूरे करने के लिए ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस को दो विकेट की दरकार है। अगर वह रविवार को ऐसा करते हैं तो 100 विकेट सबसे तेज पूरे करने वाले ऑस्ट्रेलिया के छठे गेंदबाज बनेंगे। कमिंस ने फिलहाल 60 वनडे खेले हैं। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस