नई दिल्ली, जेएनएन। आइसीसी (ICC) ने बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) पर दो साल का बैन लगा दिया क्योंकि उन्होंने बुकी द्वारा संपर्क किए जाने की बात की रिपोर्ट नहीं कराई थी। शाकिब को इसके लिए आइसीसी एंटी करप्शन कोड की उल्लंघन का दोषी पाया गया। शाकिब अल हसन से दीपक अग्रवाल नाम के भारतीय बुकी ने जनवरी 2018 में श्रीलंका, बांग्लादेश और जिम्बाब्वे को बीच खेले गए ट्राई सीरीज के दौरान दो बार संपर्क किया था जबकि अप्रैल 2018 में एक बार संपर्क करने की कोशिश की थी। 

शाकिब पर जो दो साल का बैन लगा है उसमें उन्हें एक साल की छूट दी गई क्योंकि उन्होंने पूरी ईमानदारी के साथ सारी बातें बताई। अब उनका बैन 29 अक्टूबर 2020 को खत्म होगा। बैन के बाद अब उनका टी20 विश्व कप में खेलने पर सस्पेंस पैदा हो गया है। शाकिब अल हसन पर बैन लगाए जाने के बाद आइसीसी ने बुकी के साथ हुए उनके चैट को सार्वजनिक किया है। आइसीसी ने इस घटना के बारे में पूरी जानकारी दी है। 

2017 में बांग्लादेश प्रीमियर लीग में शाकिब अल हसन ढ़ाका डायनामाइट्स टीम का हिस्सा थे उस वक्त ही उनका टेलीफोन नंबर दीपक अग्रवाल को दी गई। ये काम उस उस शख्स ने किया था जो शाकिब अल हसन को जानता था। शाकिब को पता था कि उसका नंबर अग्रवाल के साथ साझा किया गया था जो अंदर की जानकारी के लिए बीपीएल में खिलाड़ियों के संपर्क में था। इसके बाद नवंबर 2017 के मध्य में शाकिब ने अग्रवाल के साथ व्हाट्सएप संदेशों का आदान-प्रदान किया, जिसमें बुकी ने उनसे मिलने की बात भी कही थी। 

जनवरी 2018 में शाकिब और अग्रवाल के बीच व्हाट्सएप पर बात हुई जब शाकिब ट्राई सीरीज के लिए टीम में चुने गए और इसमें बांग्लादेश के साथ श्रीलंका और जिम्बाब्वे को खेलना था। 19 जनवरी 2018 को शाकिब को एक संदेश आया जिसमें अग्रवाल ने उन्हें मैन ऑफ द मैच बनने पर बधाई दी थी। बधाई संदेश के ठीक बाद बुकी ने लिखा कि Do we work in this or i wait till the IPL. इसमें जो Work शब्द का इस्तेमाल किया गया है उसका ये मतलब था कि उन्हें अंदर की जानकारी मुहैया कराएं। इसके बारे में शाकिब ने एसीयू या फिर किसी दूसरे एंटी करप्शन अधिकारी को इसकी जानकारी नहीं दी। 

23 जनवरी 2018 को शाकिब को एक और संदेश मिला जिसमें अग्रवाल ने लिखा था कि Bro anything in this series. इसमें उनसे अंदर की जानकारी देने को कहा गया था। शाकिब ने बताया कि ये संदेश अग्रवाल की तरफ से आए थे जिसमें उनसे कहा गया था कि ट्राई सीरीज को लेकर अंदर की जानकारी दें। इस बार भी शाकिब ने इसकी रिपोर्ट नहीं की। 

इसके बाद 26 अप्रैल 2018 को एक और संदेश आया जिसमें पूछा गया कि क्या आइपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच होने वाले मुकाबले में कोई एक खिलाड़ी खेलने जा रहा है तो उसका नाम बताएं। शाकिब हैदराबाद के लिए खेलते हैं। इसके बाद अग्रवाल ने बिटकॉइन, डॉलर खातों के बारे में बात करके उनसे साथ बातचीत जारी रखी और उनके डॉलर खाते का विवरण भी मांगा। इस बातचीत के दौरान शाकिब ने अग्रवाल से कहा कि वह उनसे पहले मिलना चाहते हैं। 

शाकिब ने बताया कि अग्रवाल की बातचीत से उन्हें लग गया था कि वो एक बुकी है। इन सबके बावजूद शाकिब ने इसकी रिपोर्ट नहीं की। वहीं उन्होंने एसीयू और आइसीसी से कहा कि उन्होंने अग्रवाल की किसी बात का कोई जवाब नहीं दिया साथ ही उसके किसी भी बात को नहीं माना। 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस