कोच्चि। चैंपियंस लीग टी-20 के फाइनल में शानदार प्रदर्शन करने वाले हरभजन सिंह लंबी अवधि के प्रारूप में भी अपनी फॉर्म को बरकरार रखने के प्रति आश्वस्त हैं। उनकी अगुआई में उत्तर क्षेत्र गुरुवार से यहां पूर्व क्षेत्र के खिलाफ दलीप ट्रॉफी सेमीफाइनल खेलेगा।

पढ़ें: तिलकरत्ने दिलशाने ने टेस्ट क्रिकेट को कहा अलविदा

हरभजन ने सेमीफाइनल की पूर्व संध्या पर कहा, 'निश्चित तौर पर प्रारूप बदलने पर आपको सामंजस्य बिठाना पड़ता है। मेरे लिए भी यह भिन्न नहीं है। चैंपियंस लीग में प्रदर्शन से मेरा मनोबल बढ़ा है और मैं लाल गेंद से भी अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखने की कोशिश करूंगा।' लंबी अवधि के प्रारूप में हरभजन ने अपना आखिरी मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस साल मार्च में हैदराबाद में खेला था।

उन्होंने कहा, 'मेरे लिए मैच खेलना अधिक महत्वपूर्ण है। चाहे मैं कही भी खेलूं और किसी भी प्रारूप में खेलूं। मैं सात महीने बाद प्रथम श्रेणी मैच खेलने जा रहा हूं और मेरा लक्ष्य लंबे स्पैल करना है। दिन के मैच से किसी को अपने कौशल का पता करने में ही मदद नहीं मिलती बल्कि इससे उसे अपने दमखम के बारे में भी पता चलता है। लंबे स्पैल में मैं वेरिएशन का इस्तेमाल कर सकूंगा। साथ ही शरीर को इस प्रारूप के अनुरूप ढालने में भी मदद मिलेगी, जोकि पहली प्राथमिकता होती है।'

-------------

दक्षिण से टकराएगा मध्य क्षेत्र

चेन्नई। पिछले हफ्ते पश्चिम क्षेत्र पर बड़ी जीत दर्ज करने के बाद दक्षिण क्षेत्र अब गुरुवार से शुरू हो रहे दलीप ट्रॉफी के दूसरे सेमीफाइनल में पिछले साल की फाइनलिस्ट मध्य क्षेत्र से टकराएगी। दक्षिण की अगुआई अभिनव मुकुंद कर रहे हैं, वहीं मध्य की कमान स्पिनर पीयूष चावला के हाथों में है। मध्य की टीम मुहम्मद कैफ के अनुभव का भी फायदा उठाना चाहेगी। चावला ने टॉस के सवाल पर कहा कि विकेट को देखकर लग रहा है कि यह दूसरे दिन से ही टर्न लेने लगेगी। गेंदबाजी हमारा मजबूत पक्ष है और हमें उम्मीद है कि यदि हम पहले बल्लेबाजी करते हैं तो अच्छा स्कोर करके उसका बचाव करने में सफल रहेंगे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर