नई दिल्ली, जेएनएन। मंगलवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने टीम इंडिया के हेड कोच समेत सपोर्ट स्टाफ के लिए आवेदन मांगे हैं। इसके लिए बीसीसीआइ ने शर्त भी निर्धारित कर दी है कि उसे किस तरह के उम्मीदवारों की जरूरत है। ऐसे में टीम इंडिया के मौजूदा कोच रवि शास्त्री को दोबारा से इस पद के लिए अप्लाई करना होगा। 

बीसीसीआइ ने जिन पदों के लिए आवेदन मांगे हैं उनमें विराट एंड कंपनी यानी सीनियर टीम के मुख्य कोच, बैटिंग कोच, बॉलिंग कोच, फील्डिंग कोच, फीजियो, स्ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच और एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर का पद शामिल हैं। BCCI द्वारा जारी किए गए इन पदों के लिए अंतिम तारीख 30 जुलाई है। इस दिन 5 बजे तक उम्मीदवारों को दावेदारी पेश करनी होगी।

इन पदों के लिए कुछ नए चेहरों की तलाश में BCCI जुट गई है क्योंकि कई लोगों का कार्यकाल समाप्त हो गया है। बीसीसीआइ के मुताबिक, टीम इंडिया के हेड कोच की उम्र 60 साल से कम होनी चाहिए। इसके अलावा हेड कोच के पद के उम्मीदवार के पास दो साल किसी अंतरराष्ट्रीय टीम के साथ जुड़े रहने का अनुभव होना चाहिए। 

जब रवि शास्त्री को साल 2017 में टीम इंडिया का मुख्य कोच चुना था तब 9 प्वाइंट्स का क्राइटेरिया तय किया था। इन्हीं मानकों पर खरे उतरने के बाद रवि शास्त्री टीम इंडिया के हेड कोच नियुक्त किए गए थे। लेकिन, इस बार बीसीसीआइ ने सिर्फ 3 प्वाइंट्स का क्राइटेरिया तय किया है, जो हेड कोच समेत बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच पर भी शामिल है।

ऐसे में टीम इंडिया का जो मौजूदा कोचिंग स्टाफ को इसमें ऑटोमेटिक एंट्री मिल जाएगी। इस बात का जिक्र बीसीसीआइ द्वारा जारी बयान में किया गया है। हालांकि, इसी हफ्ते टीम इंडिया के मौजूदा हेड कोच रवि शास्त्री, बैटिंग कोच संजय बांगर, बॉलिंग कोच भरत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर का कार्यकाल खत्म हुआ। लेकिन, नए स्टाफ के आने से पहले ये पूरा स्टाफ अगले 45 दिन टीम के साथ रहेगा।  

ये है नए सपोर्ट स्टाफ के लिए क्राइटेरिया

1. हेड कोच को कम से कम दो साल किसी टेस्ट प्लेइंग नेशन को कोच कराने या फिर 3 साल तक किसी ए टीम या फिर आइपीएल टीम के साथ जुड़े रहने का अनुभव होना चाहिए। 

2. उम्मीदवार को कम से कम 30 टेस्ट या 50 वनडे मैच खेलने का अनुभव होना चाहिए।

3. यही क्राइटेरिया बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच के लिए भी लागू होता है। लेकिन, इन तीन पदों के लिए कम से कम 10 टेस्ट या 25 वनडे मैच खेलने का अनुभव जरूरी है और उम्र भी 60 साल से कम होनी चाहिए। 

इस नए क्राइटेरिया के मुताबिक मौजूदा हेड कोच रवि शास्त्री(उम्र 57 साल), बैटिंग कोच संजय बांगर(उम्र 56 साल), बॉलिंग कोच भरत अरुण(उम्र 46 साल) और फील्डिंग को आर श्रीधर(उम्र 48 साल) योग्य उम्मीदवार हैं। इसके अलावा इन खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने का भी अच्छा खासा अनुुभव है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vikash Gaur