मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, आइएएनएस। भारतीय क्रिकेट में बदलाव की शुरुआत हो गई है। देश के सुप्रीम कोर्ट ने बताया है कि प्रशासकों की कमेटी (CoA) ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के संविधान का मसौदा पेश कर दिया है। इस मसौदे में सर्वोच्च क्रिकेट संगठन में संगठनात्मक सुधारों पर न्यायमूर्ति लोढ़ा कमेटी द्वारा की गई सभी सिफारिशों को शामिल किया गया है। 

पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक विनोद राय की अध्यक्षता में न्यायालय ने सीएओ की नियुक्ति की, जो वर्तमान में देश में क्रिकेट की सभी गतिविधियों का संचालन कर रही है। इसमें अभी 2 सदस्य शामिल हैं। 

एमिकस क्यूरी गोपाल सुब्रह्मण्यम ने मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एएम खानविल्कर और न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ की पीठ से कहा कि सीओए की ओर से तैयार मसौदा प्रस्तुत किया गया है, जिसमें लोढ़ा कमेटी की सभी सिफारिशें शामिल हैं। सुब्रह्मण्यम ने अदालत को यह जानकारी भी दी कि सीओए के संचालन में बीसीसीआइ की आमदनी में शानदार इजाफा हुआ है। सर्वोच्च न्यायालय ने 21 सितंबर को बीसीसीआइ तथा इसके संकाय सदस्यों को सीओए द्वारा तैयार किए गए मसौदे पर अपनी प्रतिक्रिया देने का आदेश दिया था।

अदालत ने कहा कि बीसीसीआइ और उसके राज्य सदस्यों द्वारा दिए गए सुझावों को देखने के बाद सीओए अपना अंतिम संविधान मसौदा तैयार कर प्रस्तुत करेगा और इसके बाद इस पर विचार किया जाएगा। शीर्ष अदालत ने 23 अगस्त को सीओए से लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों को ध्यान में रखते हुए बीसीसीआइ के नए संविधान का मसौदा तैयार करने को कहा था। 

अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि संविधान के मसौदे के लिए उसके 18 जुलाई, 2016 और 24 जुलाई, 2017 के फैसले को आधार बनाया जाए, जिसमें उसने एक राज्य एक वोट, चयनकमेटी के सदस्यों की तादाद और रेलवे, सर्विसेज, एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज जैसे सहयोगी सदस्यों के ओहदे के फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा था। 

इसके साथ यह भी कहा गया था कि चूंकि संविधान के मसौदे पर अंतिम फैसला अदालत को लेना है, इसलिए बीसीसीआइ को आम बैठक बुलाने की जरूरत नहीं है। अदालत ने सोमवार को कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना, कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी और कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी की उपस्थिति को भी नजरअंदाज किया। 

शीर्ष अदालत ने 21 सितंबर को अपने आदेश में 30 अक्टूबर को होने वाली सुनवाई के लिए खन्ना, अमिताभ चौधरी और अनिरुद्ध को 30 अक्टूबर को उपस्थित रहने कहा था। अदालत ने 23 अगस्त को सुनवाई के दौरान बीसीसीआइ के कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना, कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी, कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी को आड़े हाथों लिया था। अदालत ने इन सभी से साफ लहजे में कहा था कि ये लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों का लागू करने में सहयोग करें अन्यथा इसके परिणाम इनको भुगतने होंगे।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Bharat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप