जासं, आगरा। क्रिकेट और फुटबॉल मैच में सट्टा कराने वाले बुकी श्याम बोहरा से सोमवार को हुई पूछताछ में बड़े नेटवर्क से पर्दा उठता नजर आ रहा है। मुकदमे में नामजद चंद्रेश सबसे बड़ा सटोरिया निकला। पुलिस अब चंद्रेश और बोहरा में संबंध को लेकर पड़ताल कर रही है। साथ ही बोहरा से गहन पूछताछ जारी है।

आगरा के सबसे बड़े बुकी श्याम बोहरा के रिमांड पर आने के बाद हर दिन नए तथ्य सामने आ रहे हैं। सोमवार को तीसरे दिन पुलिस की पूछताछ में सामने आया कि बोहरा के खिलाफ दर्ज मुकदमे में नामजद जयपुर निवासी चंद्रेश अंकल का असली नाम चंद्रेश जैन उर्फ जुपीटर है। यह वही शख्स है जो 2013 में आइपीएल की स्पॉट फिक्सिंग के गिरोह के सरगना के रूप में पकड़ा गया था। इस स्पॉट फिक्सिंग के बाद ही खिलाड़ी श्रीसंत, अंकित चंडेला, अंकित चह्वाण के ऊपर प्रतिबंध लग गया था।

मुंबई क्राइम ब्रांच ने इससे पूछताछ की तो इसका पाकिस्तान और अंडरव‌र्ल्ड से कनेक्शन सामने आया था। यह मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग करता था। बोहरा ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि चंद्रेश जैन उसे ग्राहक देता था और सट्टे के खेल में संरक्षण भी देता था। पुलिस ने पुख्ता करने के लिए जुपीटर का फोटो भी इंटरनेट से बोहरा को दिखाया। इससे भी बोहरा ने पुष्टि कर दी। अभी पुलिस उससे चंद्रेश के बारे में गहराई से पूछताछ कर रही है।

सीओ रितेश कुमार सिंह ने बताया कि चंद्रेश जैन और बोहरा के बीच करीबी संबंध हैं। चंद्रेश उसके संरक्षक का काम करता था। अभी इस संबंध में और जानकारी जुटाई जा रही है। इसके बाद चंद्रेश तक पहुंचने के लिए राजस्थान पुलिस की मदद ली जाएगी। जयपुर और मुंबई में दर्ज मुकदमों के बारे में भी पता किया जाएगा। उधर, श्याम बोहरा की घोषित और अघोषित संपत्तियों का ब्योरा पुलिस ने एडीए, आवास विकास, नगर निगम और तहसील से मांगा है।

कई राज्यों में है चंद्रेश का नेटवर्क
जयपुर के बड़े बुकी चंद्रेश का नेटवर्क राजस्थान के अलावा, हरियाणा, मुंबई और उप्र में है। कई प्रदेशों के बुकियों के लिए वह सट्टे का भाव तय करता है और उन्हें ग्राहक भी उपलब्ध कराता है। कोई परेशानी आने पर वह उनकी मदद भी करता है।

बोहरा के 15 खातों में अब तक 76.40 लाख रुपये फ्रीज
श्याम बोहरा के आइटीआर से पुलिस को उसके खातों के बारे में जानकारी मिली थी। आगरा की छत्ता पुलिस ने उसके 15 खातों की डिटेल बैंकों से मांगी। सभी खातों में जमा कुल 76.40 लाख रुपये फ्रीज करा दिए गए हैं। इनमें से दस खातों में जमा 64 लाख रुपये पहले से ही फ्रीज थे। इंस्पेक्टर छत्ता सुभाष बाबू कठेरिया ने बताया कि इनके अलावा श्याम बोहरा का स्टेट बैंक का एक खाता कोर्ट से आदेश मिलने पर फ्रीज कराया जाएगा।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Ravindra Pratap Sing