नई दिल्ली, जेएनएन। बांग्लादेश क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने दो साल का प्रतिबंध लगा दिया है। आईसीसी ने फिक्सिंग के लिए संपर्क किए जाने की सूचना नहीं दिए जाने की वजह से शाकिब के खिलाफ यह फैसला सुनाया है।

शाकिब बांग्लादेश टी20 और टेस्ट टीम के कप्तान हैं। उनको भारत दौरे पर तीन टी20 सीरीज और दो टेस्ट मैचों की सीरीज से लिए भारत का दौरा करना था। आईसीसी ने सजा सुनाए जाने से पहले ही उनके टीम के साथ प्रैक्टिस करने पर रोक लगा दी थी। 

आईसीसी ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी है कि दुनिया के नंबर एक वनडे ऑलराउंडर और बांग्लादेशी टी20 कप्तान पर दो साल का बैन लगाने का फैसला लिया गया है। आईसीसी द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक 29 अक्टूबर 2020 से शाकिब इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी कर सकते हैं। 

आईसीसी ने शाकिब पर सभी तरह की क्रिकेट के खेलने पर पाबंदी लगा दी है। शाकिब पर प्रतिबंध दो साल का है लेकिन एक साल को निलंबित कर दिया गया है। आईसीसी ने बांग्लादेशी कप्तान पर लगाए गए प्रतिबंध की जानकारी देते हुए बताया कि उनके उपर दो साल का प्रतिबंध लगाए जाने का फैसला लिया गया है जिसमें से एक साल ही प्रभावी होगा। 

शाकिब ने तीन मौकों पर आईसीसी के एंटी करप्शन कोड के उल्लंघन की बात स्वीकार की है जिसकी वजह से उनको एक साल की सजा में छूट दी गई। इन तीन मौकों के बारे में आईसीसी ने विस्तार से जानकारी दी है। 

शाकिब एंटी करप्शन यूनिट को उनको संपर्क किए जाने की पूरी जानकारी देने में नाकाम रहे। जनवरी 2018 में बांग्लादेश, श्रीलंका और जिम्बाब्वे के बीच खेली गई ट्राई सीरीज में और आईपीएल 2018 की पहली घटना बताई गई है। 

आईपीएल 2018 के दौरान सनराइजर्स हैदराबाद और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच मुकाबले में भी उनको संपर्क किए जाने की जानकारी है। इस मामले में भी शाकिब किसी तरह की जानकारी देने में नाकाम रहे। 

 

Posted By: Viplove Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस