नई दिल्ली, सुनील गावस्कर। सुनील, दुख की बात, वह नहीं रहे'। मुझे तोड़ देने वाले ये शब्द सुनने को मिले कि 'मेरे कप्तान' अजित वाडेकर का निधन हो गया। कुछ ही समय पहले मैं उन्हें कार में डालकर अस्पताल ले जाने में मदद करने का प्रयास कर रहा था, क्योंकि एंबुलेंस को आने में 15 मिनट और लगने वाले थे और तब भी लग रहा था कि उनके बचने की उम्मीद काफी कम है।

जब मैंने रणजी ट्रॉफी में मुंबई की ओर से पदार्पण किया तो वाडेकर मेरे कप्तान थे और जब मुझे भारतीय टीम में खेलने का मौका मिला तो भी वह मेरे कप्तान थे। इसलिए मेरे लिए वह हमेशा 'कप्तान' रहेंगे।

वह शिवाजी पार्क जिमखाना और मैं दादर यूनियन स्पोर्टिग क्लब से था, जो तब बड़े प्रतिद्वंद्वी क्लब थे, लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ा, क्योंकि मैं पहले प्रशंसक था। उनके दिनों में शायद ही कोई सप्ताहांत निकलता हो जब आपको सुनने को नहीं मिलता हो कि वाडेकर ने शतक जड़ा। वह स्थानीय और रणजी ट्रॉफी में इतना शानदार प्रदर्शन कर रहे थे कि कई लोगों के लिए यह हैरानी भरा था कि उन्होंने काफी देर से 1966 में गैरी सोबर्स की वेस्टइंडीज की टीम के खिलाफ पदार्पण किया। 

पांच साल बाद उन्होंने सोबर्स की टीम के खिलाफ ही पहली बार भारतीय टीम की अगुआई की और सीरीज जीती, वेस्टइंडीज को पहली बार हराया। कुछ महीने बाद उनकी अगुआई में भारत ने एक और एतिहासिक जीत दर्ज की, जब इंग्लैंड को इंग्लैंड में पहली बार हराया। उन्हें वे लोग तंज में भाग्यशाली कप्तान कहते थे जो यह तथ्य नहीं पचा पाए कि उन्होंने कप्तान के रूप में करिश्माई मंसूर अली खान पटौदी की जगह ली। 

चयन समिति के तत्कालीन अध्यक्ष महान बल्लेबाज विजय मर्चेन्ट को भी आलोचना का सामना करना पड़ा, क्योंकि उनके निर्णायक वोट ने ही तब वाडेकर को नया भारतीय कप्तान बनाया। इन दो जीतों और इसके एक साल बाद भारत में एक और जीत के बावजूद ना तो मर्चेट को और ना ही वाडेकर को भारत को जीत की हैट्रिक दिलाने का श्रेय दिया गया। वाडेकर ने अचानक की टेस्ट से संन्यास ले लिया जब एक अन्य दिग्गज भारतीय पॉली उमरीगर की अगुआई वाली चयन समिति ने दलीप ट्रॉफी की पश्चिम क्षेत्र की टीम में उन्हें जगह नहीं दी।

इसके बाद उन्होंने अपने बैंकिंग करियर पर ध्यान दिया और मुंबई क्रिकेट संघ के साथ क्रिकेट प्रशासन पर भी। जब हम कुछ खिलाडि़यों ने अपार्टमैंट ब्लॉक बनाने के प्लॉट के लिए महाराष्ट्र सरकार से आग्रह किया तो अजित इसमें भी आगे रहे। जब इमारत बनी तो प्रमोटर होने के नाते उन्हें सबसे ऊपर का तल मिला और मैं उनके ठीक नीचे रहता था।

वह हमेशा मजाकिया लहजे में कहते थे, 'सनी के ऊपर सिर्फ मैं हूं।' शायद ही ऐसा कोई दिन हो जब मैंने उनके शब्दों 'अरे का रे' की नकल नहीं की हो। मेरा कप्तान अब नहीं रहा, लेकिन जब भी मैं कहूंगा 'अरे का रे' तो वह हमेशा मेरे साथ रहेंगे। भगवान आपकी आत्म को शांति दे, कप्तान।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Lakshya Sharma